Jul २३, २०२१ १६:०९ Asia/Kolkata

इस्राईल 50 वर्षों से यमन में घुसपैठ करने की कोशिश कर रहा है। इसका स्पष्ट उदाहरण ज़ायोनी शासन का जासूस बारूक ज़की मरज़ाखी है, जिसे बाबुल मंदब स्ट्रैट में एक इस्राईल के तेल टैंकर के दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद वर्ष 1971 में गिरफ़्तार किया गया था। यमनी रक्षा मंत्रालय ने हाल ही में एक डोकोमेंट्री फिल्म का निर्माण किया है कि जिसमें यमन में सक्रिय इस्राईली जासूसी गतिविधियों से संबंधित मामलों पर से पर्दा उठाया गया है, ऐसी गतिविधियां जिनका केंद्र सना, हुदैदा और तईज़ था, यह वे इलाक़े थे जो ...

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर  पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स