Jul ३०, २०२१ १२:५१ Asia/Kolkata

मुहम्मद अल्लामी दस वर्षीय फ़िलिस्तीनी बच्चा था जो अपने पिता और अपने छोटे भाई के साथ रोटी ख़रीदने के लिए घर से निकला था लेकिन ज़ायोनी सैनिकों ने वेस्ट बैंक की बैते उमर चेक पोस्ट पर उसे गोली मार दी,

उसके कमज़ोर बदन पर पांच गोलियां गली जबकि कोई भी इस अपराध और फ़ायरिंग की वजह को समझ नहीं सका, अलावा यह कि यह काम अतिग्रहणकारियों का है।

यह ज़ायोनियों का एक बड़ा अपराध है, उन्होंने मेरा बेटा मुझसे छीन लिया, अल्लाह ने सात साल के बाद यह बेटा मुझे दिया था। इस फ़िलिस्तीनी बच्चे का नाम का मुहम्मद था और सात साल के इलाज के बाद अल्लाह ने यह बच्चा उसके माता पिता को दिया था, उसके चाचा और मामू, फ़िलिस्तीनी शहीदों में थे, इस्राईली सैनिक 2021 के आरंभ से अब तक 72 फ़िलिस्तीनी बच्चों और नौजवानों को ग़ज्ज़ा और वेस्टबैंक में शहीद कर चुके हैं।

फ़िलिस्तीनी बच्चे की मां का कहना है कि अल्लाह उस पर अपनी रहमतें नाज़िल करे.....फ़िलिस्तीनी बच्चे मुहम्मद की शवयात्रा के समय पूरे शहर और घर में मातम पसरा हुआ था, एक बार फिर इस्राईली सैनिकों ने एक और फ़िलिस्तीनी बच्चे को शहीद कर दिया।

टैग्स