Aug ०१, २०२१ १२:२० Asia/Kolkata
  • लेबनानी एथलीट का इस्राईली खिलाड़ी से मुक़ाबले से इनकार, खिलाड़ियों का यह क़दम तोप और टैंकों से भी ज़्यादा ख़तरनाक है, इस्राईल  

बुल्गारिया में आयोजित होने वाली वर्ल्ड मार्शल आर्ट्स चैंपियनशिप में ज़ायोनी शासन के खिलाड़ी के साथ मुक़ाबले से बचने के लिए लेबनानी एथलीट ने प्रतियोगिता से अपना नाम वापल ले लिया।

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक़, शनिवार को लेबनानी एथलीट अब्दुल्लाह मिनियातू ने जब यह देखा कि चैंपियनशिप में उनका मुक़ाबला इस्राईली खिलाड़ी से होगा, तो उन्होंने अपना नाम वापस ले लिया।

प्रतियोगिता से अपना नाम वापस लेने के बाद, उन्होंने कहा कि ज़ायोनी शासन को मान्यता नहीं देने के कारण, वह उसके प्रतिनिधि से मुक़ाबला नहीं करेंगे, क्योंकि अगर वह ऐसा करते हैं तो यह ज़ायोनी शासन के साथ संबंधों को सामान्य करने जैसा होगा।

उनके कोच मोहम्मद अल-ग़ुरबी का कहना था कि दुर्भाग्यवश मोहम्मद अब्दुल्लाह का पहला मुक़ाबला इस्राईली खिलाड़ी से था, इसलिए हमने इस प्रतियोगिता में भाग नहीं लेने का फ़ैसला किया, इसलिए कि इसमें भाग लेना, ज़ायोनी शासन को मान्यता प्रदान करने जैसा होगा, जो हमारे बच्चों का हत्यारा है और उसने हमारी सरज़मीन पर क़ब्ज़ा कर रखा है।

अल-जज़ायर, सूडान और ईरान जैसे कई मुस्लिम देशों के खिलाड़ी इससे पहले भी खेलों में ज़ायोनी शासन के खिलाड़ियों के साथ खेलने से इनकार कर चुके हैं।

इस्राईली मीडिया ने मुस्लिम और अरब देशों के खिलाड़ियों के इस क़दम को टैंक और हथियारों से भी ज़्यादा ख़तरनाक क़रार दिया है। msm

टैग्स