Aug ०५, २०२१ २१:१६ Asia/Kolkata
  • सैयद हसन नसरुल्लाह! आप यह काम कर ही डालिए! गृह युद्ध अब लेबनान की चौखट पर पहुंच चुका है, यह है लेबनान के हालत के बारे में हमारी राय

मैंने लेबनान के हालात जानने के लिए अपने दोस्त और अलमयादीन टीवी चैनल के एंकर कमाल ख़लफ़ को फ़ोन किया क्योंकि बैरूत धमाके को एक साल का समय हो गया है जिसमें आधा बैरूत तबाह हो गया था और 200 लोगों की जानें गई थीं जबकि 6 हज़ार लोग घायल हुए थे।

कमाल ख़लफ़ ने बस एक जुमले में हालात की तसवीर खींच दी कि अब ज़िदगी बर्दाश्त के बाहर हो गई है। न बिजली है, न पानी है, न दवाएं हैं, न पेट्रोल है और गर्मी का यह हाल है कि तापमान 40 डिग्री के क़रीब पहुंच रहा है और हमारे घर भट्टियों में बदल गए हैं।

यह भूमिका हमने इसलिए पेश की हिज़्बुल्लाह के प्रमुख सैयद हसन नसरुल्लाह ने अपने भाषण में जो बातें कही हैं उनको आसानी से समझा जा सके। उनके भाषण का अंदाज़ यह था कि वह अब हर तरह की प्रतिक्रिया का सामना करने के लिए तैयार हैं। सैयद हसन नसरुल्लाह के भाषण की कुछ ख़ास बातें थीं,

  1. सैयद हसन नसरुल्लाह ने दो टूक शब्दों में कहा कि हिज़्बुल्लाह के सैनिकों के अंतिम संस्कार में फ़ायरिंग में हिज़्बुल्लाह के जो सदस्य शहीद हुए हैं उनका ख़ून माफ़ नहीं किया जाएगा।
  2. कुछ ताक़तें हैं जो लेबनान में बाहर से हथियार लाने की कोशिश कर रही हैं और उनका मक़सद गृह युद्ध की आग भड़काना है। सैयद हसन नसरुल्लाह ने यह बात ठोस जानकारी मिल जाने के बाद ही कही है।
  3. उन्होंने यह भी बता दिया कि सऊदी अरब में पूर्व प्रधानमंत्री सअद हरीरी की गिरफ़तारी के बाद से ही इस साज़िश की शुरुआत हो गई थी।
  4. हिज़्बुल्लाह का एक प्रतिनिधिमंडल तेहरान में मौजूद है जो पेट्रोल और डीज़ल की क़िल्लत की समस्या का हल तलाश कर रहा है और बहुत जल्द ईंधन ज़मीनी या समुद्री रास्ते से लेबनान पहुंच जाएगा।
  5. सैयद हसन नसरुल्लाह ने यह बात ग़ुस्से में कही कि हम ईरान से दवाएं लाएंगे और ला रहे हैं, जो लोग इन दवाओं को ज़हर कह रहे हैं वह इन्हें इस्तेमाल न करें। सैयद हसन नसरुल्लाह के बयान से साफ़ हो गया है कि हिज़्बुल्लाह अब धमकी के चरण से गुज़र कर अमल के चरण में दाख़िल हो गया है।

सैयद हसन नसरुल्लाह का यह शक्तिशाली भाषण ज़ाहिर कर रहा है कि अब उनके सब्र की हद हो चुकी है क्योंकि कठिनाइयों ने लेबनान के आम नागरिक का जीवन कठिन बना दिया है। अगर अमरीका, इस्राईल और उनके साथ लेबनान में उनके एजेंट युद्ध चाहते हैं तो फिर आगे आ जाएं और ख़मियाज़ा भुगतने के लिए भी तैयार हो जाएं।

दुश्मनों की नज़रें हिज़्बुल्लाह और उसके मिसाइलों पर हैं जिनकी वजह से इस्राईल की नींद हराम हो गई है। लेबनान के ख़िलाफ़ साज़िश रचने वालों को शायद बख़ूबी अंदाज़ा नहीं है कि पूरा इलाक़ा बदल चुका है। ईरान में भी क्रांतिकारी नेता सैयद इब्राहीम रईसी ने कमान संभाली है जिन्हें सुप्रीम लीडर का भरपूर समर्थन हासिल है। अब ईरान इस्राईल को खुला संदेश दे रहा है कि अगर सीरिया में हमारे ठिकानों पर तुमने हमला किया तो हम खुले समंदर में तुम्हारे जहाज़ों को ध्वस्त कर देंगे।

दक्षिणी लेबनान से तीन मिसाइल फ़ायर किए गए जो इस्राईल के ग़ैर क़ानूनी क़ब्ज़े वाले शमूना में गिरे यह बड़े तूफ़ान की पूर्व चेतावनी है। हिज़्बुल्लाह अब रक्षात्मक मुद्रा छोड़कर आक्रामक मुद्रा में आ रहा है।

सैयद हसन नसरुल्लाह! हम तो आपसे यही कहेंगे कि आपने जो फ़ैसला कर लिया है वह कर डालिए और यक़ीन रखिए कि सारे भले लोगों का समर्थन आपको हासिल रहेगा।

अब्दुल बारी अतवान

अरब जगत के विख्यात लेखक व टीकाकार

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर  पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स