Sep २४, २०२१ ०८:५६ Asia/Kolkata
  • ईरान और हिज़्बुल्लाह, इस्राईल के लिए सबसे बड़ा ख़तरा हैं

फ़िलिस्तीन के एक जानकार सूत्र ने दावा किया है कि ज़ायोनी शासन ने मिस्र को सूचना दे दी है कि वह हमास के साथ बंदियों के आदान प्रदान में रुचि रखता है क्योंकि वह महत्वपूर्ण चुनौतियों पर अर्थात ईरान और हिज़्बुल्लाह पर अपना ध्यान केन्द्रित करना चाहता है।

फ़ार्स न्यूज़ एजेन्सी की रिपोर्ट के अनुसार फ़िलिस्तीन के एक जानकार सूत्र ने जो क़ैदियों के आदान प्रदान के मुद्दे पर नज़र रखे हुए हैं, अलक़ुदसुल अरबी समाचार पत्र से बात करते हुए कहा कि ज़ायोनी शासन ने मध्यस्थ के रूप में मिस्र को यह सूचना दे दी है कि वह हमास के साथ बंदियों के आदान प्रदान में रुचि रखती है।

इस जानकार सूत्र ने इस विषय के बारे में कहा कि ज़ायोनी शासन, ग़ज़्ज़ा पट्टी के साथ लंबे युद्ध विराम और नयी सैन्य झड़पों से बचने का प्रयास कर रहा है ताकि सबसे ख़तरनाक चुनौती पर ध्यान केन्द्रित करे जिनमें सबसे अहम ईरान और हिज़्बुल्लाह हैं।

इस जानकार सूत्र ने यह बयान करते हुए कि क़ैदियों के आदान प्रदान की प्रक्रिया को दोनों ही पक्ष अपने हित में मोड़ने के प्रयास कर रहे हैं, कहा कि पिछले सप्ताह मिस्र इस मामले में सक्रिय था और इस विषय में सबसे अहम बात यह है कि तेल अवीव ने क़ाहिरा से इस मुद्दे पर फिर से वार्ता शुरू करने की अपील की थी और उम्मीद है कि बहुत जल्द इस संवेदनशील विषय पर वार्ता के रास्ते खुल जाएंगे। (AK)

 

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर  पर हमें फ़ालो कीजिए