Sep २४, २०२१ २०:४९ Asia/Kolkata
  • इस्राईल की नीव रखने वाले भी अब उसके भविष्य को लेकर भयभीत

इस्राईल की नीव रखने वाले के बेटे ने कहा है कि मैं ज़ायोनी शासन के भविष्य को पूरी तरह से अंधकारमय देखता हूं।

अरब पोस्ट के अनुसार 95 वर्षीय याक़ूब शारीत ने ज़ायोनी समाचारपत्र हाआरेत्स को दिये साक्षात्कार में कहा है कि मुझको इस्राईल का भविष्य बहुत अधिक अंधेरे में डूबा हुआ दिखाई दे रहा है।

अवैध ज़ायोनी शासन के पहले विदेशमंत्री और दूसरे प्रधानमंत्री के बेटे याक़ूब शारीत ने कहा कि ज़ायोनी परियोजना का जन्म पाप की कोख से हुआ है।  इस्राईल के अंधकारमय भविष्य के बारे में उन्होंने कहा कि मेरी आयु अब लगभग 95 वर्ष की है।  मेरी आर्थिक स्थिति भी अच्छी है।

याक़ूब शारीत का कहना था कि हर प्रकार के आराम के बावजूद मैं अपने पोतों और नवासों अर्थात इस्राईल की नई पीढ़ी के भविष्य को लेकर बहुत चिंतित हूं।  मुझको उनके कल की चिंता है।

सन 1948 में इस्राईल के गठन के घोषणापत्र पर हस्ताक्षर करने वाले मूशे शारीत के 95 वर्षीय बेटे याक़ूब शारीत का कहना है कि इस समय मैं यहां पर अर्थात ज़ायोनी शासन में हूं।  इस उम्र में मैं इधर-उधर नहीं जा सकता।  अब मैं यह सोचकर परेशान रहता हूं कि इस्राईल का क्या होगा क्योंकि यह एक वर्चस्ववादी शासन है जो दूसरे लोगों पर अत्याचार और हमले करता रहता है।

ज्ञात रहे कि सन 1948 में ब्रिटेन की सहायता और खुले समर्थन से फ़िलिस्तीनियों की मात्रभूमि पर क़ब्ज़ा करके अवैध ज़ायोनी शासन का गठन किया गया था।

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर  पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स