Oct १३, २०२१ ०९:२६ Asia/Kolkata
  • इराक़ के संसदीय चुनाव में शिया धर्मगुरु सद्र की पार्टी ने बाज़ी मार ली, विपक्षी पार्टियों ने चुनाव में धांधली का लगाया आरोप

इराक़ के शिया धर्मगुरु मुक़तदा सद्र की पार्टी रविवार को आयोजित हुए आम चुनावों में सबसे बड़ी और विजेता पार्टी बनकर उभरी है।

सोमवार को देश के कई प्रांतों और राजधानी बग़दाद में वोटों की गिनती के बाद शुरुआती परिणामों के आधार पर प्रभावशाली शिया धर्मगुरु के नेतृत्व वाली पार्टी की सीटों की संख्या पिछले चुनावों की तुलना में लगभग दोगुना हो गई है।

हालांकि इराक़ी प्रतिरोधी धड़े ने वोटिंग और चुनाव के नतीजों में धांधली का आरोप लगाया है और एक बयान जारी करके कहा है कि राष्ट्रीय सम्मान और संप्रभुता की रक्षा के लिए वह पूरी तरह से तैयार है।

बयान में इराक़ी जनता से दुश्मनों की साज़िशों को नाकाम बनाने और अभिव्यक्ति की आज़ादी की रक्षा के लिए आगे आने की अपील की गई है।

चुनाव के शुरूआती नतीजों के मुताबिक़, 329 संसदीय सीटों में से सद्र आंदोलन को 73 सीटें प्राप्त हुई हैं, जबकि उसके बाद तक़द्दुम गठबंधन को 38, क़ानून शासन गठबंधन को 37, कुर्दिस्तान डेमोक्रेटिक पार्टी को 32 और फ़तह गठबंधन को 14 सीटें हासिल हुई हैं।

फ़तह, क़ानून शासन गठबंधन, असाएब अहल अल-हक़, कताएब हिज़्बुल्लाह और कुर्दिस्तान मेहन गठबंधन ने चुनावों के नतीजों में हुई धांधली का दावा करते हुए उसे रद्द कर दिया है। msm

टैग्स