Oct १८, २०२१ १५:४८ Asia/Kolkata

ज़ायोनी मंत्री रहबाम ज़ईफ़ी की टारगेट किलिंग जो फ़िलिस्तीन की आज़ादी के मोर्चे के नेता अबू अली मुस्तफ़ा की हत्या के जवाब में अंजाम दी गयी थी, फ़िलिस्तीनी मोर्चे ने ग़ज़्ज़ा शहर में फ़िलिस्तीन की रेड क्रिसेंट सोसायटी के मुख्यालय के बाहर प्रदर्शन किया ताकि बल दें कि फ़िलिस्तीनी गुट इस्राईल की कार्यवाही का जवाब देते रहेंगे।

फ़िलिस्तीनी मोर्चे की केन्द्रीय कमेटी के सदस्य रामी अबूसऊद का कहना है कि हमेशा इस बात पर बल दिया जाता रहेगा कि फ़िलिस्तीनी प्रतिरोध हमेशा जवाब कार्यवाही करेगा और बैतुल मुक़द्दस आप्रेशन के दौरान भी बेहतरीन जवाब दिया गया, प्रतिरोध ने जनता की उमंगों को पूरा करने का समय निर्धारित कर दिया है।

 इस विरोध प्रदर्शन में बड़ी संख्या में लोगों और अनेक फ़िलिस्तीन गुटों के कार्यकर्ताओं ने भाग लिया, इस प्रदर्शन को रेड क्रिसेंट सोसायटी के मुख्यालय के बाहर आयोजित करने का फ़ैसला किया गया ताकि फ़िलिस्तीनियों के मुख्य मुद्दे, बंदियों के मुद्दे पर विशेष बल दिया जाए, विशेषकर यह कि इस्राईली जेल में बंद फ़िलिस्तीनी क़ैदियों के खिलाफ़ दमनकारी कार्यवाहियां जारी हैं और 300 से अधिक फ़िलिस्तीनी बंदियों ने भूख हड़ताल कर रखी है।

 हमास के एक वरिष्ठ नेता इस्माईल रिज़वान का कहना है कि 17 अक्तूबर 2001 में फ़िलिस्तीनी संघर्षकर्ताओं ने आतंकवादी गुट के सरग़ना रहबाम ज़ईफ़ी की हत्या करके महत्वपूर्ण संदेश दिया, प्रतिरोध का पलड़ा हमेशा भारी रहेगा। यह फ़िलिस्तीनियों का एक नया समीकरण है, जिसे फ़िलिस्तीनियों ने सैन्य ताक़ से साबित कर दिया है और इस ताक़त पर भरोसा करते हुए अतिग्रहणकारियों के साथ बर्ताव करते हैं। (AK)

 

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर  पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स