Nov २०, २०२१ १४:०८ Asia/Kolkata

...फ़िलिस्तीनियों ने इस हफ़्ते उस जगह पर नमाज़े जुमा अदा की जहां पिछले 5 महीनों में दस फ़िलिस्तीनी इस्राईलियों से लड़ते हुए शहीद हो गए। नमाज़ के बाद उन्होंने मार्च भी किया जिसके दौरान इस्राईली सैनिकों ने उन पर आंसू गैस की शेलिंग की।

इस झड़प में कुछ फ़िलिस्तीनी घायल हो गए जो अपनी धरती को इस्राईली क़ब्ज़े से बचाने और ज़मीनों पर इस्राईल की ग़ैर क़ानूनी बस्तियों के निर्माण को रोकने के लिए आए थे।.....अपराधी बेनेत और ग़ैर क़ानूनी शासन इस्राईल को हमारा संदेश यह है कि तुम क़त्ल और नरसंहार के रास्ते पर चाहे जितना आगे बढ़ते जाओ बैता इलाक़े के हम निवासी अपने संघर्ष से पीछे नहीं हटेंगे।

इस्राईली सैनिक बैता के निवासियों को डराने के लिए आंसू गैस और प्लास्टिक की  गोलियों का इस्तेमाल करते हैं ताकि यह निवासी आज़ादी और इस्राईलियों को बाहर निकालने की अपनी मांग छोड़ दें। पश्चिमी तट के इलाक़े में इन दिनों बड़े पैमाने पर इस्राईल यहूदी बस्तियों के निर्माण की कोशिश में है।.....स्थानीय बुज़ुर्ग ने कहा कि यह भूमि हमारी है और हम इसके लिए अपनी जान दे देंगे। अब तक हम दस शहीदों की क़ुरबानी पेश कर चुके हैं और हज़ारों लोग घायल हुए हैं लेकिन आज़ादी मिलने तक संघर्ष जारी रहेगा।...इस्राईल की बुनियाद हमलों और आतंकवाद पर रखी गई है।

इस्राईल शांतिपूर्ण प्रदर्शनों को भी सहन करने पर तैयार नहीं है। इसी लिए वह फ़िलिस्तीनी युवाओं का दमन करता है जो अपनी धरती और अपने अधिकारों की रक्षा के लिए संघर्षरत है। फ़िलिस्तीन से आईआरआईबी के लिए ख़ालि सबारना की रिपोर्ट   

 

टैग्स