Dec ०६, २०२१ १३:४४ Asia/Kolkata

....सऊदी अरब के युद्धक विमानों ने यमन की राजधानी सनआ पर कई हमले किए जिनमें आवासीय इमारतों और एक शापिंग सेंटर को निशाना बनाया गया।

इन हमलों में कोई आम नागरिक घायल हो गए जिनमें कुछ की हालत नाज़ुक है।....स्थानीय नागरिक ने बताया कि यह शापिंग सेंटर एक यमनी नागरिक का है जो खाने पीने की चीज़ें सप्लाई करते हैं।

मगर उसको भी निशाना बनाया गया। इस इमारत में न तो कोई हथियार था और न ही यह कोई सैनिक स्थान था। यह तो आम नागरिकों के इस्तेमाल की चीज़ें हैं।....एक अन्य नागरिक का कहना है कि यह तो आवासीय मोहल्ला है। आम नागरिक इन्हीं मुहल्लों में रहते हैं। मेरी गाड़ी को नुक़सान पहुंचा है, यहां घरों को नुक़सान पहुंचा है। 13 आम नागरिक घायल हुए हैं।

....अंसारुल्लाह आंदोलन के नेता का कहना है कि विश्व समुदाय की ख़ामोशी का फ़ायदा उठाकर सऊदी अरब इसतरह आम नागरिकों पर बर्बरतापूर्ण हमले कर रहा है। इस स्थिति के कारण हमलावर का दुस्साहस बढ़ गया है। लेकिन जब यमनी इन हमलों का जवाब देते हैं तो क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर शोर मच जाता है। .....यमनी नागरिक का कहना है कि हम सुरक्षा परिषद और उन देशों को दोषी मानते हैं जो सऊदी अरब का समर्थन कर रहे हैं। आलू सऊद और आले नहियान शासक इन हमलों के दोषी हैं। इसके दोषी वही हैं जो आम नागरिकों को आतंकित कर रहे हैं और बेगुनाहों को निशाना बना रहे हैं।

 .....स्थानीय लोगों का कहना है कि तनाव बढ़ने का कारण अमरीका तथा विशेष अमरीकी दूत हैं। इन हमलों का जवाब यह होना चाहिए कि यमन भी उन जगहों को निशाना बनाए जहां से हमलावर युद्धक विमान उड़ान भरते हैं। जवाबी कार्यवाही करना यमन की जनता का अधिकार है क्योंकि हमलावर आम नागरिकों को निशाना बना रहे हैं। सनआ से आईआरआईबी के लिए अब्दुल्लाह युसुफ़ी की रिपोर्ट  

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर  पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स