Jan २२, २०२२ १८:५५ Asia/Kolkata

……यमन में राजधानी सनआ और दूसरे कई प्रांतों में लाखों लोग सड़कों पर निकले और यमन के ख़िलाफ़ सऊदी अमरीकी गठबंधन की आपराधिक कार्यवाहियों और नाकाबंदी की निंदा की। प्रदर्शनकारियों ने ज़ोर देकर कहा कि प्रतिरोध जारी रहना चाहिए और हमलों का मुंहतोड़ जवाब दिया जाना चाहिए।

प्रदर्शनकारियों की विश्व समुदाय से मांग थी कि वह यमन के आवासीय और ग़ैर सामरिक इलाक़ों पर सऊदी गठबंधन की बमबारी का नोटिस ले और बेरहमी से जारी नाकाबंदी को ख़त्म करवाए।.....यमनी नेता का कहना था कि देश के लोग सड़कों पर निकले हें ताकि हमलावरों की निंदा करें और यह संदेश दें कि यमन की जनता की नाकाबंदी में सऊदी अरब के साथ ही इस्राईल और अमरीका के लिप्त होने की सच्चाई भी उनकी नज़र से छिपी नहीं है।....अंसारुल्लाह आंदोलन के एक नेता मुहम्मद फ़त्ताह ने कहा कि हम अमरीका और उसके घटकों को यह बता देना चाहते हैं कि आपको इस इलाक़े में केवल यमन नहीं बल्कि हर देश से अपमानित होकर बाहर निकलना पड़ेगा। आप  लोग अपराधी हैं।.....प्रदर्शनकारियों का कहना था कि अमरीका हमलावरों का समर्थन और उन्हें हथियारों की सप्लाई करके अपराधियों का मनोबल बढ़ा रहा है। प्रदर्शनकारियों ने ज़ोर देकर कहा कि हमलावरों की उत्तेजक कार्यवाहियों का नुक़सान हमलावरों को उठाना पड़ेगा क्योंकि यमन की जनता तनाव का जवाब तनाव से देखी।....यमनी वकील ख़ालिद अलक़दाही ने कहा कि अमरीका शांति की बातें तो बहुत करता है लेकिन तथ्यों से यह बात सामने आती है कि तनाव और टकराव जारी रहने से अमरीका को फ़ायदा पहुंचता है। ...यह प्रदर्शन अमरीका और सऊदी अरब की उन नीतियों पर जनता के गहरे आक्रोश का प्रदर्शन है जिनका अब तक यमन में कोई फ़ायदा हासिल नहीं हुआ है। और हमलावर भी अपने लक्ष्य पूरे नहीं कर सके हैं। सनआ से आईआरआईबी के लिए ख़ालिद सईद की रिपोर्ट।

 

टैग्स