Jan २५, २०२२ १८:१९ Asia/Kolkata
  • प्रतिबंधों के ख़िलाफ़ सीरिया की भी चीख़ निकल पड़ी

सीरिया के उप विदेशमंत्री ने अपने देश के विरुद्ध अमरीका के अत्याचारपूर्ण प्रतिबंधों की कड़ी आलोचना करते हुए कहा कि सीरिया की जनता को आर्थिक आतंकवाद का सामना है।

अलमयादीन टीवी चैनल की रिपोर्ट के अनुसार सीरिया के उप विदेशमंत्री बश्शार जाफ़री ने संयुक्त राष्ट्र संघ की मानवाधिकार परिषद में सीरियाई राष्ट्र के विरुद्ध पश्चिम की अत्याचारपूर्ण नीतियों की ओर इशारा करते हुए कहा कि ज़ोरज़बरदस्ती की कार्यवाही, आर्थिक आतंकवाद में बदल गयी है जिसका निशाना सीरियाई जनता है।

सीरिया के उप विदेशमंत्री ने कहा कि इन ज़ोरज़बरदस्ती की कार्यवाहियों ने सीरियाई नागरिकों की ज़िंदगी, स्वास्थ्य सेवाओं, शिक्षा और हर प्रकार के विकास और प्रगति का हक़ छीन लिया है।

बश्शार जाफ़री ने बल देकर कहा कि सीरिया ने 44 विदेशी संस्थाओं और संगठनों को इस देश में काम करने की इजाज़त दे रखी है और इन संस्थाओं के लिए युद्ध और संकट के नकारात्मक परिणाम कम करने के प्रयासों का समर्थन करने केलिए काम करना आसान बना दिया है।

ज्ञात रहे कि यूरोपीय संघ और अमरीका ने सीरिया में आतंकवाद के समर्थन का निराधार आरोप लगाते हुए कई प्रकार के प्रतिबंध लगा दिए हैं। अमरीका ने 2019 में सीरिया के विरुद्ध सेज़ार नामक क़ानून बनाया और उसके आधार पर सीरियाई लोगों और संस्थाओं पर कड़े प्रतिबंध लगा दिए हतैं।

इन प्रतिबंधों में इस देश के तेल आयात पर भी प्रतिबंध और सेन्ट्रल बैंक की संपत्ति सील करना भी शामिल है। (AK)

 

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर  पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स