Jan २८, २०२२ १६:५६ Asia/Kolkata

राजधानी सनआ के निवासियों ने एक बार फिर मीज़ाइल हमलों के साए में रात बितायी। हमलावसर सऊदी गठबंधन ने यमन के विभिन्न प्रांतों पर अपने हमले जारी रखे और उसने 20 बार सनआ पर बमबारी की।

इन हमलों के दौरान सयाना के भीड़भाड़ वाले क्षेत्र नहज़ा, सनआ के बिजलीघर की इमारत और उसके उपकरणों, दारुल रियासा क्षेत्र, सबईन शहर के हफ़ा इलाक़ों को निशाना बनाया गया। जरबान क्षेत्र, सनहान शहर का ज़बआत क्षेत्र और बनी मतर इलाक़ा भी इन हमलों से सुरक्षित नहीं रहा।

इसके मुक़ाबले में यमनी सेना ने मआरिब प्रांत में इमारात के एजेन्टों के एकत्रित होने के स्थान को दो मीज़ाइलों से निशाना बनाया। एक यमनी महिला टीकाकार का कहना है कि यमनी जनता के विरुद्ध होने वाले अपराध पर विश्व समुदाय की चुप्पी को हम अहमियत नहीं देते, सबसे अहम चीज़ यह है कि यमनी जनता यह जानती है कि उसके दुश्मन कौन हैं और किस तरह से हमलावरों के मुक़ाबले में डटना चाहिए.... संयुक्त अरब इमारात के अंदर यमन के आत्मरक्षा में किए गये हमलों के बारे में हमलावर मीडिया के प्रोपेगैंडे के साए में हमलावर गठबंधन के युद्धक विमानों के 24 घंटों के अवासीय क्षेत्रों पर हमलों की वजह से यमनी बच्चों और महिलाओं में भय का माहौल है।

यह युद्धक विमान हमले से पहले साउंड बैरियर को तोड़ते हैं और उसके बाद आवासीय क्षेत्रों पर शक्तिशाली बम गिराते हैं ताकि जिन लोगों को आवाज़ सुनाई दे वह समझें के उनके सिर पर या उनके आसपास ही धमाका हुआ है।

यमन के विदेशमंत्री का कहना है कि कुछ देशों का दृष्टिकोण और सऊदी अरब तथा इमारात पर जवाबी हमलों की निंदा का कारण इन देशों से उनके हित और उनकी चापलूसी है और यमनियों का तूफ़ान आप्रेशन, हमलावरों को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए किया गया था।

इसी के साथ सऊदी-इमाराती गठबंधन सुनियोजित ढंग से यमन के आधारभूत ढांचों और संपर्क नेटवर्क को निशाना बना रहा है, ताज़ा हमलों के दौरान सनआ की तहसील में जबले हरूरा के संपर्क नेटवर्क पर बमबारी की गयी जिसमें उसके उपकरण तबाह हो गये और अन्य क्षेत्रों से उसका संपर्क टूट गया, ज़मार में भी कम्युनिकेश्न सेन्टर पर सऊदी-इमाराती युद्धक विमानों ने हमला किया। (AK)

टैग्स