May २६, २०२२ ०८:४८ Asia/Kolkata
  • इस्राईल के ख़िलाफ़ सन् 2000 की जीत, समकालीन लेबनानी इतिहास की सबसे बड़ी उपलब्धि है, नसरुल्लाह

हिज़्बुल्लाह के महासचिव सैयद हसन नसरुल्लाह ने कहा है कि हिज़्बुल्लाह ने सन् 2000 में इस्राईल के ख़िलाफ़ जो सफलता हासिल की थी, वह समकालीन लेबनानी इतिहास की सबसे बड़ी उपलब्धि है।

ग़ौरतलब है कि 25 मई सन् 2000 को लेबनान के इस्लामी प्रतिरोध आंदोलन ने इस्राईल को दक्षिण लेबनान से पीछे हटने पर मजबूर कर दिया था। इसीलिए 25 मई को लेबनान में प्रतिरोध की ईद के रूप में मनाया जाता है।

इस अवसर पर बुधवार की रात टीवी पर अपने संबोधन में हसन नसरुल्लाह ने कहाः 2000 की जीत ने उस सेना के अंहकार को मिट्टी में मिला दिया, जिसे अजय समझा जाता था, इसी के साथ ग्रेटर इस्राईल की योजना पर पानी फेर दिया और फ़िलिस्तीनी लोगों में आज़ादी की उम्मीद जगा दी।

उन्होंने इस्लामी प्रतिरोध का समर्थन करने के लिए ईरान का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि तेहरान ने प्रतिरोध का भरपूर समर्थन किया है।

हिज़्बुल्लाह के महासचिव ने इस अवसर पर आईआरजीसी की क़ुद्स फ़ोर्स के पूर्व कमांडर जनरल क़ासिम सुलेमानी को भी याद किया और कि प्रतिरोध के मोर्चे को मज़बूत बनाने में उन्होंने अद्वितीय भूमिका निभाई थी।

हसन नसरुल्लाह ने लेबनानी जनता को संबोधित करते हुए कहा कि उन्हें ज़ायोनी शासन के असली चेहरे को पहचानना चाहिए, जो रूप बदलकर क्षेत्रीय देशों से संबंध स्थापित करने का प्रयास कर रहा है। msm

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स