Aug ०७, २०२२ १६:३३ Asia/Kolkata
  • ज़ायोनी ग़ज़्ज़ा पट्टी की ग़लती को लेबनान में दोहराने की कोशिश न करें

लेबनान के इस्लामी प्रतिरोध आंदोलन हिज़्बुल्लाह के महासचिव ने कहा है कि प्रतिरोध ने इस्राईल की धाक व हैबत को खत्म कर दिया और जायोनियों को ग़ज़्ज़ा पट्टी की गलती को लेबनान में नहीं दोहराना चाहिये।

सय्यद हसन नसरुल्लाह ने नवीं मोहर्रम की रात को अपने भाषण में कहा कि लेबनान और फिलिस्तीन के प्रतिरोध ने सिद्ध कर दिया कि अतिग्रहणकारी जायोनी सेना पराजित होती है और वह ज़लील व अपमानित होती है।

उन्होंने कहा कि इराक, अफगानिस्तान, ईरान, यमन, सोमालिया, वेनेज़ोएला और क्यूबा के अनुभवों ने दर्शा दिया कि अमेरिका भी राजनीतिक और ग़ैर राजनीतिक दृष्टि से पराजित होता है।

उन्होंने स्पष्ट किया कि कुछ सरकारें हमें इस बात का विश्वास दिलाने का प्रयास कर रही हैं कि इस्राईल शांति का पक्षधर व प्रतीक है जबकि जायोनी शासन बहुत अधिक अपराध कर रहा है। लेबनान के इस्लामी प्रतिरोध आंदोलन के महासचिव ने कहा कि जायोनी शासन की वास्तविकता व पहचान से हमें सबको अवगत कराना चाहिये और दूसरों को इस बात को समझाना चाहिये कि उसके मुकाबले में प्रतिरोध किया जा सकता है।

उन्होंने गज़्ज़ा पट्टी में होने वाले परिवर्तनों और इस पट्टी में जायोनी शासन के जारी अपराधों की ओर संकेत करते हुए कहा कि जो कुछ गज्जा पट्टी में हो रहा है वह इस्राईल का अतिक्रमण और खुला अपराध है और जो भी जायोनी शासन के अपराधों के मुकाबले में चुप्पी साधे और मौन धारण करे उसकी भर्त्सना की जानी चाहिये और जेहादे इस्लामी को इस बात का हक है कि वह इसका जवाब दे।

इसी प्रकार उन्होंने जायोनियों को संबोधित करते हुए कहा कि मैं तुम्हें नसीहत करता हूं कि हिज्बुल्लाह को डराने की कोशिश न करो और जो गलती गज्जा पट्टी में कर रहे हो उसे लेबनान में दोहराने की कोशिश न करो। MM

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर पर हमें फ़ालो कीजिए 

फेसबुक पर हमारे पेज को लाइक करें

टैग्स