Sep २९, २०२२ १७:२० Asia/Kolkata
  • फ़िलिस्तीनियों की हवा से टारगेट किलिंग की इस्राईली योजना, विस्फोटक हो चुके हैं हालात, अमरीका ने कहा संयम बर्ता जाए

इस्राईल के चीफ़ आफ़ आर्मी स्टाफ़ अवीव कोख़ाफ़ी ने फ़िलिस्तीनी संघर्षकर्ताओं की हवाई हमलों से टारगेट किलिंग करने की अनुमि इस्राईली सेना को दी है। इस्राईल यह आपराधिक कार्यवाही वेस्ट बैंक के इलाक़े में करना चाहता है।

इस बीच वेस्ट बैंक के इलाक़े जेनीन में इस्राईली सैनिकों के हमलों में 4 फ़िलिस्तीनियों की शहादत के बाद अमरीका ने इस्राईल से कहा है कि संयम से काम ले।

इस्राईली मीडिया का कहना है कि जनरल कोख़ाफ़ी ने जेनिन शिविर में होने वाले इस्राईली सेना के हमले के बाद हालात का मूल्यांकन करने के लिए हुई बैठक में कहा कि इस्राईली सैनिकों को अनुमति है कि ख़ास रूप से निर्धारित हालात में वेस्ट बैंक के इलाक़े में हवाई से टारगेट किलिंग की जा सकती है। ख़ूंखार इस्राईली सेना के प्रमुख ने कहा कि जब उन्हीं के शब्दों में विध्वंसकारियों तक पहुंचने का कोई और तरीक़ा न हो तो हवाई हमला करके उनकी टारगेट किलिंग कर दी जाए।

इस्राईली सेना के प्रमुख ने जिस आप्रेशन की अनुमति दी है संभावना है कि उसे ड्रोन विमानों का इस्तेमाल करके अंजाम दिया जाएगा।

इस बीच हालिया दिनों में फ़िलिस्तीनी संघर्षकर्ताओं की से इस्राईली अपराधों का जवाब देने की प्रक्रिया तेज़ हो गई है। फ़िलिस्तीनी जियालों ने साहस का परिचय देते हुए कई जगहों पर इस्राईली सैनिकों पर हमले किए हैं।

इस्राईली सेना ने बुधवार को जेनिन शरणार्थी शिविर पर हमला कर दिया जिसके दौरान फ़िलिस्तीनी संघर्षकर्ताओं से उसकी झड़पें हुईं। झड़पों में चार फ़िलिस्तीनी संघर्षकर्ता शहीद हुए।

फ़तह आंदोलन ने शहीद होने वाले संघर्षकर्ताओं को श्रद्धा पेश की और कहा कि उनका संबंध इसी संगठन से था।

फ़िलिस्तीनी संगठनों ने इस्राईली सेना के हमलों की निंदा की है और फ़िलिस्तीनी प्रशासन ने कहा है कि तनाव बढ़ाने से इस्राईल को ख़मियाज़ा भुगतना पड़ेगा।

इस बीच गुरुवार को भी वेस्ट बैंक में इस्राईली सैनिकों ने हमला किया जिसमें कम से कम 12 फ़िलिस्तीनी घायल हुए।

अमरीकी विदेश मंत्रालय ने वेस्ट बैंक के हालात पर चिंता जताई है और फ़िलिस्तीनियों और इस्राईल से मांग की है कि संयम से काम लें और शांति बहाल करने की कोशिश करें क्योंकि इससे दोनों पक्षों को फ़ायदा होगा।

अमरीकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि अमरीका दोनों पक्षों की मदद करने के लिए तैयार है मगर सबसे महत्वपूर्ण विकल्प यह है कि फ़िलिस्तीनी और इस्राईली मिलकर शांति बहाल करने की कोशिश करें।

अमरीकी विदेश मंत्रालय ने कहा कि इस साल वेस्ट बैंक में 100 से अधिक और ग़ज़्ज़ा पट्टी में 30 से अधिक फ़िलिस्तीनी मारे गए जबकि इस बीच 20 से अधिक इस्राईली भी मारे गए हैं।

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर पर हमें फ़ालो कीजिए 

फेसबुक पर हमारे पेज को लाइक करें 

टैग्स