Sep १९, २०१९ ००:०० Asia/Kolkata
  • पार्स टूडे की भविष्यवाणी हुई सही, फ़िलिस्तीनियों के मीज़ाइलों ने दिखाया रंग, नेतेनयाहू बहुमत हासिल करने में हुए विफल

ज़ायोनी प्रधानमंत्री बिनयामीन नेतेनयाहू आम चुनावों में एक बार फिर सरकार बनाने के लिए वाछिंत बहुमत प्राप्त करने में विफल हो गये हैं किन्तु मुक़ाबला पूर्व आर्मी चीफ़ बेनी गान्टेज़ की पार्टी के बीच बराबर हो गया है।

प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार चुनाव परिणामों से पता चलता है कि लंबे समय तक सरकार में रहने वाले नेतेनयाहू को साल में दूसरी बार ज़बरदस्त धचका लगा है।

इस्राईली मीडिया के अनुसार 90 प्रतिशत मतगणना हो चुकी है जिसके अनुसार नेतेनयाहू की पार्टी लिकोड और पूर्व आर्मी चीफ़ बेनी गान्टेज़ की ब्लू एंड वाइट पार्टी को लगभग बराबर सीटें प्राप्त हुई हैं।

 नेतेनयाहू की पार्टी लिकोड के नेतृत्व में गठबंधन को 120 सीटों वाली संसद में 55 सीटें जबकि बाएं बाज़ू के गठबंधन को 56 सीटें प्राप्त हुई हैं और सरकार बनाने के लिए 61 सीटों की आवश्यकता होती है।

लिकोड के प्रवक्ता का कहना था कि दाएं बाज़ू के अनेक नेताओं ने नेतेनयाहू से उनके कार्यालय में मुलाक़ाता की और अगली सरकार में उनके साथ मिलकर काम करने की इच्छा व्यक्त की है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि चुनाव के बाद प्राप्त परिणामों के अनुसार सेक्युलर नेश्नलिस्ट पार्टी इस्राईल बैतोना के प्रमुख और पूर्व युद्धमंत्री एविग्डोर लेबरमैन 9 सीटें प्राप्त करके सरकार बनाने के लिए महत्वपूर्ण बन गये हैं।

एविग्डोर लेबरमैंन की मांग है कि समस्त बड़ी पार्टियों की संयुक्त सरकार बनाई जाए किन्तु उन्होंने जारी वर्ष अप्रैल में नेतेनयाहू की दाएं बाज़ू और धार्मिक पार्टियों का समर्थन करने से इन्कार कर दिया था और अब उन्हें एक बार फिर उसी स्थिति का सामना है।

नेतेनयाहू ने अपने चुनावी प्रचार में अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प से निकट संबंधों का भरपूर प्रचार किया था किन्तु चुनाव के हवाले से कोई बयान जारी नहीं किया, उनकी ओर से जीत या हार स्वीकार करने की आधिकारिक घोषणा नहीं हुई है। (AK)

कमेंट्स