Dec १३, २०१९ २०:१३ Asia/Kolkata
  • आयतुल्लाह सीस्तानी ने प्रदर्शनकारियों के हाथों 16 वर्षीय लड़के की निर्मम हत्या की कड़ी निंदा की है

इराक़ के वरिष्ठ शिया धर्मगुरु आयतुल्लाह सीस्तानी ने बग़दाद में प्रदर्शनकारियों के हाथों एक 16 वर्षीय लड़के की निर्मम हत्या की कड़ी निंदा की है।

इराक़ के पवित्र शहर कर्बला में जुमे की नमाज़ में आयतुल्लाह सीस्तानी के प्रतिनिधि ने उनका बयान पढ़कर सुनाया, जिसमें उन्होंने इस तरह की बर्बरता के परिणामों के प्रति सचेत किया है।

बयान में कहा गया है कि इस तरह के अपराधों से देश की स्थिरता और शांतिपूर्ण प्रदर्शनों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।

इराक़ के वरिष्ठ धर्मगुरु ने इस जघन्य अपराध पर भीड़ द्वारा ख़ामोश खड़े होकर तमाशा देखने को अफ़सोसनाक क़रार दिया और अपराधियों को इंसाफ़ के कटहरे में खड़ा करने की मांग की।

चश्मदीद लोगों का कहना है कि लड़के का अपराध सिर्फ़ इतना था कि उसने घर के पास रोज़ हंगामा करने वाले प्रदर्शनकारियों को वहां से भगाने के लिए हवाई फ़ायरिंग की थी।

हवाई फ़ायरिंग के बाद प्रदर्शनकारियों का एक समूह उसके घर में ज़बरदस्ती घुस गया और हैसम पर कि जो अपनी मां के साथ था, चाक़ू के 17 वार किए।

उसके बाद हत्यारे उसकी लाश को घर से बाहर खींचकर ले गए और उसके कपड़े उतारे और पैरों में रस्सी बांधकर खंबे से लटका दिया और उसका गला काट डाला।

आयतुल्लाह सीस्तानी ने एक बार फिर प्रदर्शकारियों से मांग की है कि शांति बनाए रखें और अपनी मांगे रखने के लिए हिंसा का सहारा न लें।

बयान में कहा गया है कि हम शांतिपूर्ण प्रदर्शनों पर बल देते हैं और हत्या और अपहरण जैसे अपराधों की निंदा करते हैं।    

इराक़ के वरिष्ठ धर्मगुरु का कहना था कि लिंचिग की इस घटना से एक बार फिर साबित हो गया कि हथियार रखने का अधिकार सिर्फ़ देश के सुरक्षा बलों को है। msm

टैग्स

कमेंट्स