Feb १५, २०२० १६:४९ Asia/Kolkata
  • जनरल सुलेमानी के ख़ून ने अपना रंग दिखाना शुरू कर दिया, अमरीका, इराक़ से बाहर निकलने के लिए तैयार

अमरीका और इराक़ा के वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों ने एक ख़ुफ़िया बैठक के दौरान इराक़ से अमरीकी सैनिकों के चरणबद्ध निष्कासन के लिए योजना तैयार कर ली है।

मिडिल ईस्ट आई ने इस ख़ुफ़िया बैठक का पर्दाफ़ाश करते हुए कहा है कि पिछले हफ़्ते यह ख़ुफ़िया बैठक हुई, जिसमें इराक़ से अमरीकी सैनिकों के बाहर निकलने पर सहमति बनी।

ग़ौरतलब है कि 3 जनवरी को बग़दाद एयरपोर्ट के निकट ईरानी कमांडर जनरल क़ासिम सुलेमानी, इराक़ी कमांडर अबू मोहंदिस और उनके 8 साथियों को अमरीका ने ड्रोन हमला करके शहीद कर दिया था।

5 जनवरी को इराक़ी संसद ने देश से विदेशी सैनिकों को बाहर निकालने के लिए एक बिल पास किया था, जिसके बाद बग़दाद सरकार ने अमरीका से अपने सैनिकों को बाहर निकाल लेने की मांग की थी।

हालांकि ट्रम्प प्रशासन ने इराक़ से अपने सैनिकों को बाहर निकालने से इनकार कर दिया था, लेकिन यह स्पष्ट था कि इराक़ी जनता और स्वयं सेवी बलों के भारी दबाव के कारण देर या सवेर अमरीका को इराक़ से अपने सैनिकों को बाहर निकालने के लिए मजबूर होना ही पड़ेगा।

जनरल क़ासिम सुलेमानी के ख़ून का बदला लेने के लिए ईरान ने 8 जनवरी को इराक़ स्थित अमरीका के 2 सैन्य अड्डों पर क़रीब एक दरजन बैलिस्टिक मिसाइल फ़ायर किए थे।

शुरूआत में ईरान के जवाबी हमलों में किसी भी तरह के नुक़सान से इनकार के बाद, ट्रम्प प्रशासन अब तक 100 से भी ज़्यादा सैनिकों के घायल होने की बात स्वीकार कर चुका है।

अब पेंटागन ने इराक़ से अपने सैनिकों को बाहर निकालने के लिए इराक़ी सेना के सामने एक योजना पेश की है, जिसके अनुसार चरबद्ध रूप से अमरीकी सैनिकों को बाहर निकाला जाएगा।

इस योजना के अनुसार, अमरीका पहले शिया बहुल इलाक़ों के निकट स्थित सैन्य अड्डों को ख़ाली करेगा, जैसे कि बलद एयरबेस, जो राजधानी बग़दाद के उत्तर में 80 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

रिपोर्ट के मुताबिक़, अमरीका बग़दाद में भी अपनी उपस्थिति को कम करने पर विचार कर रहा है।

लेकिन यहां ध्यान योग्य बिंदू यह है कि अमरीका अभी भी इराक़ में अपने सबसे बड़े सैन्य अड्डे ऐनुल असद को ख़ाली करने की बात नहीं कर रहा है।

यह उन दो सैन्य अड्डों में से एक है, जिसे ईरान ने निशाना बनाया था।

सूत्रों के मुताबिक़, अमरीकी और इराकी सैन्य अधिकारियों के बीच ख़ुफ़िया बैठक जॉर्डन की राजधानी अम्मान स्थित कनाडाई राजदूत के निवास पर हुई है।

इस बैठक में अमरीकी सेना के प्रतिनिधि, नाटो के एक अधिकारी और इराक़ के एक सुरक्षा सलाहकार ने भीग लिया। msm

टैग्स

कमेंट्स