Feb २४, २०२० १६:४३ Asia/Kolkata
  • सऊदी अरब ने मार गिराए गए लड़ाकू विमान के पायलटों को मारने की बहुत कोशिश की, सऊदी पायलटों के बारे में यमन का बड़ा ख़ुलासा

यमन में अंसारुल्लाह (अल-हौसी) आंदोलन के एक वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि यमन, जल्द ही मार गिराए गए सऊदी लड़ाकू विमान के दो पायलटों के बारे में जानकारी सार्वजनिक करेगा।

सऊदी सरकारी न्यूज़ एजेंसी एसपीए ने इस घटना के बाद दावा किया था कि लड़ाकू विमान टोरनाडो के गिरने के बाद, सऊदी वायु सेना ने ज़िंदा बच जाने वाले अपने दो पायलटों को सुरक्षित निकालने के लिए अभियान शुरू किया था।

हालांकि उसके बाद सऊदी अरब की ओर से पाटलटों के भविष्य को लेकर कोई दूसरा बयान जारी नहीं किया गया।

रविवार को अल-हौसी पोलित ब्यूरो के सदस्य मोहम्मद अल-बुख़ैती ने लंदन स्थित अल-मायादीन टीवी के साथ एक इंटरव्यू में ख़ुलासा किया है कि सऊदी वायु सेना ने 14 फ़रवरी को लड़ाकू विमान को मार गिराए जाने के बाद, घटनास्थल पर भीषण बमबारी करके अपने दोनों पायलटों को ख़त्म करने की कोशिश की थी।

अल-बुख़ैती का कहना था कि सऊदी अरब ने लड़ाकू विमान के गिरने के आसपास के इलाक़े और उसके मलबे पर बमबारी करके अपने दोनों पायलटों को मारने की कोशिश की थी।

सऊदी अरब की बमबारी में बड़ी संख्या में बच्चों और महिलाओं समेत दर्जनों यमनी नागरिकों की मौत हो गई थी।

संयुक्त राष्ट्र संघ की रिपोर्ट के मुताबिक़, यमन के अल-जॉफ़ प्रांत के अल-हायजाह इलाक़े में सऊदी हवाई हमलों में 31 आम नागरिक मारे गए थे।

पिछले पांच वर्षों से सऊदी सैन्य गठबंधन के हमलों को झेल रहे यमन के हौसियों ने 14 फ़रवरी को पहली बार विमान-रोधक गाइडेड मिसाइल से सऊदी अरब का टोरनाडो लड़ाकू विमान मार गिराया था।

यमन द्वारा सऊदी विमान को मार गिराने की घटना को इस युद्ध का एक अहम मोड़ माना जा रहा है, जिससे शक्ति का संतुलन अब पूरी तरह से यमन के पक्ष में दिख रहा है।

शुरु से ही इस युद्ध में ग्राउंड पर सऊदी अरब और उसके सहयोगी कहीं नज़र नहीं आ रहे थे और वे केवल लड़ाकू विमानों से अमरीका और पश्चिमी देशों से ख़रीदे गए बमों को निहत्थी यमनी जनता के सिरों पर गिरा रहे थे, लेकिन विमान-रोधक गाइडेड मिसाइल बनाकर और उसका सफलतापूर्वक इस्तेमाल करके युद्ध के मैदान में यमन ने अपने दुश्मनों से यह श्रेष्ठता भी छीन ली।

रविवार को यमनी सेना ने स्वदेश निर्मित 4 मिसाइल वायु रक्षा प्रणालियों का अनावरण करके  अपने दुश्मनों को एक और बड़ा झटका दिया।

यमन की सर्वोच्च राजनीतिक परिषद के प्रमुख मेहदी अल-मशात का कहना था कि नई मिसाइल प्रणालियों से हमलावर गंठबंधन के ख़िलाफ युद्ध का नक़्शा बदल जाएगा। msm

टैग्स

कमेंट्स