May २२, २०२० २२:०१ Asia/Kolkata
  • फ़िलिस्तीन की आज़ादी का मार्ग सशस्त्र संघर्ष के अतिरिक्त कुछ भी नहीं हैः सैयद हसन

हिज़बुल्लाह के महासचिव ने कहा कि इस्राईल का विनाश तो निश्चित है किंतु वास्तविक युद्ध तो अमरीका से है।

विश्व क़ुद्स दिवस के अवसर पर सैयद हसन नसरुल्लाह ने कहा कि अवैध ज़ायोनी शासन, कैंसर के फोड़े की तरह है जो मट जाएगा।  उन्होंने कहा कि सागर से लेकर नदी तक अर्थात भूमध्य सागर से जार्डन नदी तक का क्षेत्र फ़िलिस्तीन है जिसे फ़िलिस्तीनियों को दिया जाना चाहिए।  हिज़बुल्लाह के महासचिव ने कहा कि फ़िलिस्तीन की आज़ादी का मार्ग सशस्त्र संघर्ष ही है।  उनका कहना था कि इसके अतिरिक्त कोई भी दूसरा मार्ग समय नष्ट करने जैसा है।  हसन नसरुल्लाह के अनुसार फ़िलिस्तीनी ज़ाहिरी तौर पर इस्राईल के विरुद्ध संघर्षरत हैं किंतु अस्ल मुक़ाबला तो अमरीका से है।  उन्होंने कहा कि पिछले कुछ दशकों के दौरान क्षेत्र के युद्ध इसलिए कराए गए ताकि क्षेत्र में शक्ति का संतुलन  इस्राईल के हित में बना रहे।  सैयद हसन का कहना था कि ईरान पर थोपा गया युद्ध और वर्तमान समय में यमन पर सऊदी अरब का हमला यह सब उसी रणनीति का भाग हैं।

हिज़बुल्लाह के महासचिव सैयद हसन नसरुल्लाह ने इस्लामी प्रतिरोध के केन्द्र में ईरान को धुरी बताते हुए कहा कि यही कारण है कि अमरीका की हर प्रकार की कार्यवाहियों का शिकार ईरान होता है।  उन्होंने कहा कि प्रतिरोध का मोर्चा अडिग रहेगा और उसको अधिक सशक्त करने की प्रक्रिया जारी रहेगी।  हिज़बुल्लाह के महासचिव के अनुसार इस्राईल इस प्रक्रिया को किसी भी स्थिति में यमन, सीरिया, इराक़ और लेबनान कहीं पर भी रोक नहीं पाएगा।  हसन नसरुल्लाह ने कुछ अरब देशों की ओर से ज़ायोनी शासन के साथ संबन्ध सामान्य करने की भर्त्सना की।  उन्होंने कहा कि यह रास्ता कभी तै नहीं हो पाएगा

टैग्स

कमेंट्स