May २४, २०२० १९:३७ Asia/Kolkata
  • इस्राईली जनरल ने कबूला, हिज़्बुल्लाह ने हमें भगाया दक्षिणी लेबनान से... हिज़्बुल्लाह को खत्म करना इस्राईल के बस का नहीं, इस्राईल के भूतपूर्व प्रधानमंत्री का एलान!  

इस्राईल के पूर्व चीफ आफ आर्मी स्टाफ गैदी एज़ोनकोट ने कहा है कि लेबनान के हिज़्बुल्लाह संगठन ने छापामार हमलों की मदद से इस्राईल को लेबनान से बाहर निकालने में सफलता प्राप्त की है।

     उन्होंने दक्षिणी लेबनान से इस्राईली सैनिकों के निकलने की 20 वीं वर्षगांठ, इस्राईल ह्यूम समाचार पत्र से एक वार्ता में कहा कि लेबनान के हिज़्बुल्लाह आंदोलन ने इस्राईली सेना के मुकाबले में अपना लक्ष्य प्राप्त कर लिया और उनकी रणनीति, हमारे सैनिकों के साथ छापामार युद्ध और थका देने वाली लड़ाई थी।

     इस पूर्व इस्राईली जनरल ने बताया कि हिज़्बुल्लाह ने कुछ बेहद जटिल सैन्य अभियानों  से इस्राईली सेना को परेशान कर दिया था इसी लिए हम लेबनान से निकलने पर मजबूर हुए और यह वही चीज़ थी जो हिज़्बुल्लाह  चाहता था।

     इस्राईल के भूतपूर्व प्रधानमंत्री, भूतपूर्व रक्षा मंत्री और भूतपूर्व चीफ आफ आर्मी स्टाफ एहुद बाराक ने भी कुछ दिनों पहले रेडियो तेलअबीव से एक वार्ता में लेबनान से इस्राईली सैनिकों की वापसी पर चर्चा करते हुए कहा था कि तेलअबीव ने लेबनान पर क़ब्ज़े की योजना तैयार कर ली थी और वह फिलिस्तीनी शरणार्थियों को लेबनान से जार्डन भेजने का मन बना लिया था लेकिन काफी कठिन योजना होने की वजह से हमारा यह मिशन पूरी तरह से नाकाम  हो गया।

 

     उन्होंने इस सवाल का जवाब देते हुए कि जब वह इस्राईल के चीफ आफ आर्मी स्टाफ थे तो उस दौरान उन्होंने हिज़्बुल्लाह को खत्म क्यों नहीं किया? कहा कि "  हिज़्बुल्लाह को खत्म करना संभव नहीं था। हिज़्बुल्लाह एक प्रतिरोध संगठन है जिसकी जड़ें लेबनान के नगरों में फैली हैं और उसके सदस्य आम जनता में फैले हैं इस लिए आप सूर व सैदा नगरों में घुस कर और वहां रह कर ही उन्हें खत्म कर सकते हैं। हमने अतीत में प्रयोग किये हैं मगर हमें विफलता मिली। जैसा कि हम पश्चिमी तट में फिलिस्तीनी " आतंकवादी" तत्वों को नहीं खत्म कर पाए। हमारे ख्याल में हिज़्बुल्लाह को पूरी तरह से खत्म करने का कोई रास्ता ही नहीं है। " Q.A.

    

 

टैग्स

कमेंट्स