Sep १३, २०२० २१:५० Asia/Kolkata
  • अरब रजवाड़ों से समझौते का असर दिखने लगा, यमन में इस्राईल की बड़ी छावनी बनाने की तैयारी, इस्राईली विशेषज्ञों ने दी दस्तक

यमन के एक अधिकारी का कहना है कि संयुक्त अरब इमारात ने इस्राईली विशेषज्ञों की एक टीम को रणनैतिक दृष्टि से महत्वपूर्ण सुक़ुतरा द्वीप भेजा है ताकि वे वहां पर सैन्य छावनी बना सकें।

सबा न्यूज़ के हवाले से अल आलम ने रिपोर्ट दी है कि सुक़ुतरा द्वीप के गवर्नर हाशिम साद सुक़ुतरा ने बताया कि यूएईए ने इस्राईली विशेषज्ञों की एक टीम सुक़ुतरा द्वीप भेजी है।

साद सुक़ुतरा ने बताया कि इतिहास में इस द्वीप पर हमलावरों का वर्चस्व नहीं रहा है, जल्द ही यमन पर हमला करने वाले गठबंधन देशों, अमरीका और इस्राईल की इस द्वीप पर ललचाई नज़रों पर पानी फिर जाएगा।

यमन के इस अधिकारी ने बताया कि यमन पर हमले के समय से ही संयुक्त अरब इमारात ने इस द्वीप में छावनी बनाने और इस द्वीप की सुरक्षा को तबाह करने के लिए छापामार गुटों के गठन की कोशिशें शुरु कर दी थीं क्योंकि यह द्वीप हिन्द महासागर में रणनैतिक दृष्टि से बहुत ही महत्वपूर्ण है।  

सुक़ुतरा द्वीप के गवर्नर ने इस्राईली और अमरीकी छावनी बनाने के यूएई के प्रयासों की ओर संकेत करते हुए कहा कि यूएई ने क्षेत्र में इस्राईल की बहुत सेवाएं की हैं और यमन ने अबूधाबी और तेल अवीव के संबंधों के स्तर को दुनिया के सामने उजागर कर दिया।

उनका कहना था कि सुक़ुतरा द्वीप की जनता, इस्राईल और यूएई के संबंधों की विरोधी है और सुक़ुतरा के स्वतंत्रता प्रेमियों के पास इस्राईल और इमाराती अतिग्रहणकारियों की योजनाओं को उजागर करने की अहम भूमिका है और हमलावरों की योजना इस बार भी विफल रहेंगी।

इस यमनी अधिकारी ने बताया कि इस प्रांत में संयुक्त अरब इमारात और इस्राईल की जो भी गतिविधियां हो रही हैं वह सब सऊदी अरब के इशारे पर हो रही हैं और सुक़ुतरा में सऊदी अरब की साम्राज्यवादी सैन्य उपस्थिति है।

रियाज़ ने जनवरी के महीने में अमरीकी विशेषज्ञों की एक टीम सुक़ुतरा द्वीप में छावनी बनाने के लिए भेजी थी और अब इमारात ने इस्राईली विशेषज्ञों की टीम भेज दी है।

यमनी अधिकारी का यह बयान ऐसी हालत में सामने आया है कि इस्राईल के हेब्रू भाषा के समाचार पत्र येस्राईल ह्यूम ने भी हाल ही में अपनी एक रिपोर्ट में कहा था कि इस्राईल और संयुक्त अरब इमारात, दक्षिणी यमन में स्थित सुक़ुतरा द्वीप में जासूस छावनी बनाने का इरादा रखते हैं।  

इस्राईली समाचार पत्र लिखता है कि जासूस छावनी का मक़सद, बाबुल मंदब, दक्षिणी यमन से अदन की खाड़ी और अफ़्रीक़ी भाग पर नज़र रखना है। (AK)

ताज़ातरीन ख़बरों, समीक्षाओं और आर्टिकल्ज़ के लिए हमारा फ़ेसबुक पेज लाइक कीजिए!

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

इंस्टाग्राम पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स

कमेंट्स