Sep २२, २०२० १३:१६ Asia/Kolkata
  • सऊदी अरब, अमरीका के लिए दुधारू गाए तो इमारात दुधारू बकरी है...

यमन के जनांदोलन अंसारुल्लाह के महासचिव का कहना है कि यमन के मामले में अमरीका का हस्तक्षेप बढ़ता ही जा रहा है।

अंसारुल्लाह के महासचिव सैयद अब्दुल मलिक बदरुद्दीन अलहूसी ने यमन की क्रांति की वर्षगांठ के अवसर पर यमनी जनता को संबोधित करत हुए यमन के आंतरिक मामलों में अमरीका के बढ़ते हस्तक्षेप की आलोचना की।

अलमसीरा की रिपोर्ट के अनुसार सैयद अब्दुल मलिक अलहूसी ने 21 सितम्बर 2014 में यमन में जनक्रांति की ओर संकेत करते हुए कहा कि इस क्रांति का मक़सद यमन की आज़ादी और स्वाधीनता थी।

उन्होंने स्वतंत्रता और स्वाधीनता को क्रांति का सर्वोच्च लक्ष्य क़रार देते हुए कहा कि इन लक्ष्यों से पहले यमनी जनता साम्राज्यवादियों के षड्यंत्रों और पिछड़ेपन में घिरा जीवन बिताने पर मजबूर थी।

अंसारुल्लाह के महासचिव ने अपने संबोधन में यमन में अमरीका के बढ़ते हस्तक्षेप की ओर संकेत करते हुए कहा कि अमरीकी अधिकारी इस विचार में थे कि यमनी जनता अमरीकी हस्तक्षेप और अपनी स्वतंत्रता व स्वाधीनता की रक्षा नहीं कर सकेगी।

अब्दुल मलिक अलहूसी ने संयुक्त अरब इमारात और बहरैन के इस्राईल से संबंधों के बारे में कहा कि सऊदी अरब, अमरीका के लिए दुधारू गाए तो इमारात उसके लिए दुधारू बकरी है।

उनका कहना था कि सऊदी अरब, इमारात और बहरैन की सारी कार्यवाहियां न केवल अमरीका और इस्राईल के हित में हैं बल्कि ख़ुद उनके लिए भी रणनैतिक ग़लती है।

दूसरी ओर यमन पर सऊदी गठबंधन के हमलों का क्रम यथावत जारी है।

सऊदी गठबंधन के युद्धक विमानों ने सोमवार की रात यमन के मआरिब प्रांत के मजज़र क्षेत्र के केन्द्र पर बमबारी की है।

तसनीम न्यूज़ की रिपोर्ट के अनुसार हमले के बाद क्षेत्र में कई धमाकों की आवाज़ें सुनी गयीं।

हमलावर सऊदी गठबंधन के युद्धक विमानों ने इससे पहले भी मआरिब, अलजौफ़ और अलबैज़ा प्रांत के आवासीय क्षेत्रों को भी कई बार निशाना बनाया। (AK)   

ताज़ातरीन ख़बरों, समीक्षाओं और आर्टिकल्ज़ के लिए हमारा फ़ेसबुक पेज लाइक कीजिए!

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

इंस्टाग्राम पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स

कमेंट्स