Sep २२, २०२० २०:२६ Asia/Kolkata

हमलावर जब-जब देखते हैं कि यमनी सेना और स्वयंसेवी बल बढ़त बना रहे हैं तब-तब वे उनको रोकने के लिए आतंकियों का सहारा लेते हैं। दुनिया देख सकती है कि तकफ़ीरी तत्व, चाहे यमन में हों या सीरिया में और चाहे इराक़ में हमलावरों ने हमेशा इनकों अपने हथकंड़े के तौर पर इस्तेमाल किया है ... जहां सऊदी अरब द्वारा ख़ूंख़ार आतंकियों को यमन बुलाने का अर्थ यह है अब उसे अपने ....

टैग्स

कमेंट्स