Sep २७, २०२० १९:५५ Asia/Kolkata
  • इमारात के भीतर से बहादुर लेखिका ने उठाई इस्राईल के ख़िलाफ़ आवाज़ तो विदेश यात्रा पर लग गई रोक, अरब जगत में लेखिका के लिए समर्थन

इमारात की मशहूर लेखिका और शायर ज़बीया ख़मीस इस समय अरब मीडिया और सोशल मीडिया में चर्चा का विषय बनी हुई हैं।

ज़बीया ने ट्वीट करके बताया कि इस्राईल-इमरात समझौते का विरोध करने के कारण अबू धाबी सरकार ने 26 सितम्बर को दुबई से क़ाहेरा जाने से उन्हें रोक दिया।

ज़बीया का कहना है कि उन्होंने फ़िलिस्तीन पर क़ब्ज़ा करने वाले ज़ायोनियों और इमारात इस्राईल समझौते का विरोध किया था जिसकी वजह से उनकी विदेश यात्रा पर रोक लगाई गई है और अब उन्हें अपना जीवन भी ख़तरे में नज़र आ रहा है।

ज़बीया के इस ट्वीट पर बड़े पैमाने पर अरब बुद्धिजीवियों और लेखकों ने प्रतिक्रया जताते हुए उनका समर्थन किया है और उनके साहस की सराहना की है।

मिस्र के मशहूर साहित्यकार अब्बास मंसूर ने उनके समर्थन में ट्वीट किया।

हानी ख़र्राज़ नाम के यूज़र ने लिखा कि ज़बीया शायद अकेली लेखिका हैं जिन्होंने साहस का परिचय देते हुए इमारात इस्राईल समझौते का खुलकर विरोध किया है।

टैग्स

कमेंट्स