Oct २६, २०२० ०९:०४ Asia/Kolkata
  • अभिव्यक्ति के नाम पर मुसलमानों की भावनाओं से खिलवाड़ पर तुरंत रोक लगाए फ़्रांस, हिज़्बुल्लाह

लेबनान के इस्लामी प्रतिरोधी आंदलोन हिज़्बुल्लाह ने फ़्रांस में पैग़म्बर मोहम्मद (स) के अपमानजनक कार्टूनों के प्रकाशन की कड़ी निंदा करते हुए कहा है कि अभिव्यक्ति की आज़ादी के नाम पर इस्लाम की सबसे सम्मानित हस्ती के अनादर को किसी भी तरह से उचित नहीं ठहराया जा सकता है।

रविवार को एक बयान में हिज़्बुल्लाह ने फ़्रांस में इस्लाम और पैग़म्बरे इस्लाम के बारे में दुष्प्रचार की कड़ी निंदा की और कहा कि धर्मनिरपेक्षता के नाम पर फ़्रांसीसी सरकार, इस्लामोफ़ोबिया को हवा दे रही है।

बयान में कहा गया है कि फ़्रांस में जो कुछ प्रकाशित किया गया, उससे दो अरब से ज़्यादा मुसलमानों की भावनाएं आहत हुई हैं, जिसमें वह मुस्लिम और अरब समुदाय भी शामिल है, जो दशकों से यूरोप और फ़्रांस में रह रहा है।

हिज़्बुल्लाह का कहना है कि अभिव्यक्ति के सारे झूठे दावों के नाम पर पैग़म्बर मोहम्मद (स) के अनादर और इस्लाम को बदमान करने की इजाज़त नहीं दी जा सकती।

लेबनान के इस्लामी आंदोलन ने फ़्रांसीसी अधिकारियों से मांग की है कि ऐसा कोई भी क़दम उठाने से बचें, जिससे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर तनाव उत्पन्न हो। msm

टैग्स

कमेंट्स