Nov २२, २०२० १७:१५ Asia/Kolkata
  • क़तर की घेराबंदी को ख़त्म करने को लेकर, सऊदी अरब और यूएई आमने-सामने

अमरीका में संयुक्त अरब अमीरात के राजदूत यूसुफ़ अल-उतैबा का कहना है कि उन्हें नहीं लगता निकट भविष्य में क़तर के साथ फ़ार्स खाड़ी के अरब देशों के संबंध सामान्य हो सकेंगे।

वाशिंगटन में इस्राईली और बहरैनी प्रतिनिधियों के साथ एक कार्यक्रम के दौरान अल-उतैबा का कहना था कि क़तर के साथ मतभेदों का निपटारा, किसी की भी पड़ोसी अरब देश की प्राथमिकता नहीं है। वे (क़तर) अपने रास्ते पर आगे बढ़ना चाहते हैं, हम अपने रास्ते पर।

यूएई के वरिष्ठ राजनयिक के इस बयान के उलट सऊदी अरब के विदेश मंत्री ने कहा है कि रियाज़, अपने पड़ोसी देश क़तर के साथ तीन साल पुराने झगड़े को सुलझाना चाहता है।

क़तर के साथ मतभेदों पर बोलते हुए सऊदी विदेश मंत्री प्रिंस फ़ैसल बिन फ़रहान अल-सऊद ने कहा कि उनका देश, क़तर की घेराबंदी को ख़त्म करने के लिए रास्ता खोज रहा है, लेकिन ऐसा सशर्त किया जाएगा।

2017 में सऊदी अरब, बहरैन, यूएई और मिस्र ने क़तर पर आतंकवाद के समर्थन का आरोप लगाते हुए दोहा का बहिष्कार कर दिया था और उससे कूटनयिक व व्यापारिक संबंध तोड़ लिए थे।

हालांकि क़तर ने सऊदी गठबंधन के आरोपों को नकार दिया था और इसे अपने ख़िलाफ़ एक बड़ी साज़िश क़रार दिया था।

अमरीका में यूएई के राजदूत के बयान के विपरीत, सऊदी विदेश मंत्री का कहना है कि हम अपने क़तरी भाईयों के साथ वार्ता शुरू करना चाहते हैं और हमें उम्मीद है कि वे भी इसके लिए अपनी प्रतिबद्धता जतायेंगे। हमारा मानना है कि इस वार्ता में सुरक्षा से जुड़े मुद्दों का समाधान किया जाए।

क़तर के विदेश मंत्री शेख़ मोहम्मद बिन अब्दुल रहमान अल-सानी ने कहा है कि फ़ार्स खाड़ी संकट का कोई विजेता नहीं है और उनके देश को इस संकट के जल्द ख़त्म होने की आशा है। msm

ताज़ातरीन ख़बरों, समीक्षाओं और आर्टिकल्ज़ के लिए हमारा फ़ेसबुक पेज लाइक कीजिए!

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स