Jan २५, २०२१ १२:०८ Asia/Kolkata

सऊदी अरब की अलहायर जेल को सऊदी अरब का ग्वांतानामो या जेलों का नरक कहा जाता है।

सऊदी अरब की राजधानी रियाज़ से 40 किलोमीटर की दूरी पर दक्षिण में दुनिया की सबसे ख़तरनाक जेलों में से जेल है जहां पर आतंकवाद के आरोप में स्थानीय लोगों को रखा जाता है लेकिन समय गुज़रने के साथ साथ यह जेल सऊदी प्रशासन के विरोधियों और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की यातना का केन्द्र बन गया है।

सऊदी लीक्स वेबसाइट के अनुसार इस जेल से रिहा होने वाले इसे सऊदी अरब का ग्वांतानामो या जेलों के नरक के नाम से पुकारते हैं। जहां मानवाधिकार की धज्जियां उड़ जाती है और इंसानियत सिस्कियां लेती रहती है। मानवाधिकार संस्थाओं का कहना है कि यह दुनिया की सबसे ख़तरनाक और बुरी जेलों में से एक है।

कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच बनी इस जेल में चिकित्सा की कोई सुविधा नहीं है और क़ैदियों की दयनीय शारीरिक स्थिति और उनकी चीख़ पुकार जेल की चार दीवारी में गूंजकर रह जाती है।

सऊदी अरब के एक मशहूर राजनैतिक बंदी डाक्टर अब्दुल्लाह हामिद की 23 अप्रैल 2020 को ब्रेन हैम्रेज और पुलिस की लापरवाही की वजह से मौत हो जाती है जिसके बाद से ही यह जेल दुनिया में चर्चा की वजह बन गयी।  इस जेल से लीक होने वाली वीडियोज़ और फोटोज़ देखने के बाद इंसानियत कांप उठती है।

सीएनएन ने अपनी रिपोर्ट में लिखा है कि मुहम्मद बिन सलमान के सत्ता में आने के बाद यह जेल और भी ख़तरनाक हो गयी जिसमें सोशल मीडिया पर सक्रिय कार्यकर्ताओं को भी ठूंसा जाने लगा, इससे पहले तक यह जेल केवल राजनैतिक बंदियों तक ही सीमित थी।

एक वेबसाइट लिखती है कि अलहायर जेल को मौत की जेल भी कहा जाता है क्योंकि इस जेल में बंद क़ैदी विभिन्न प्रकार की बीमारियों से संक्रमित हो जाते हैं।

2012 में क़ैदियों ने जेल में विद्रोह कर दिया लेकिन पुलिसकर्मियों ने ताक़त के बल पर सबको कुचल कर रख दिया था। विद्रोह इतना बड़ा था कि क़ैदियों ने जेल के अधिकतर हिस्सों पर क़ब्ज़ा कर लिया था। 2007 के बाद से सऊदी अरब ने किसी भी मानवाधिकार संस्था और मीडिया को जेल में जाने की अनुमति नहीं दी लेकिन एमेनस्टी इन्टरनेश्नल ने 2017 में अपनी वार्षिक रिपोर्ट में बंदियों को भीषण यातनाएं दिए जाने की आलोचना करते हुए लिखा कि सैकड़ों लोगों को आतंकवाद से संघर्ष के बहाने जेल में डाल दिया गया है।

जून 2020 में सऊदी सरकार के विरोधी यहया सरी ने अलहायर जेल का एक वीडियो सोशल मीडिया पर डाला जिसमें बंदी उग्र नज़र आ रहे हैं और वह पुलिसकर्मियों द्वारा केबल और कुर्सियों से मारे तथा भद्दी भद्दी गालियां दिए जाने के बारे में बता रहे हैं। (AK)

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स