Mar ०२, २०२१ ०४:१३ Asia/Kolkata
  • चार लाख यमनी बच्चों की जान ख़तरे में, हर 10 मिनट में एक यमनी बच्चा मर रहा हैः राष्ट्रसंघ

संयुक्त राष्ट्रसंघ के महासचिव ने कहा है कि अब तक कोई ऐसा गम्भीर क़दम नहीं उठाया गया है जिससे सऊदी गठबंधन यमन के खिलाफ़ अपने हमलों को रोकने पर बाध्य हो जाये।

साथ ही राष्ट्रसंघ के महासचिव एंटोनियो गुटेरस ने कहा कि यमन में हर 10 मिनट पर हमलों या बीमारी की वजह से एक बच्चे की मौत रही है। अलजज़ीरा टीवी चैनल की रिपोर्ट के अनुसार राष्ट्रसंघ के महासचिव ने सऊदी गठबंधन के हमलों से यमनी जनता पर क्या प्रभाव पड़ रहा है इसकी ओर कोई संकेत किये बिना कहा कि यमन में बच्चों की बहुत दयनीय व हृदयविदारक हालत है। उन्होंने बल देकर कहा कि यमनी बच्चों को स्वास्थ्य के विभिन्न ख़तरों का सामना है, चार लाख यमनी बच्चे कुपोषण का शिकार हैं और अगर तुरंत खाद्य पदार्थों को उन तक नहीं पहुंचाया गया तो उनकी जान ख़तरे में है।

जानकार हल्कों का मानना है कि सऊदी अरब के इस अमानवीय अपराध में वे देश और मानवाधिकारों की रक्षा का दम भरने वाले देश भी शामिल हैं जो उसका समर्थन कर रहे हैं, उसे हथियार दे रहे हैं और उसके समस्त अपराधों पर अर्थपूर्ण चुप्पी साधे हुए हैं।

टीकाकारों का यह भी कहना है कि अगर यमनी सेना सऊदी अरब के किसी संवेदनशील ठिकाने पर जवाबी हमला करती है तो मानवाधिकार की रक्षा का दम भरने वाले देशों की चीख़ निकल जाती है, और उनकी ज़बान हरकत में आ जाती है परंतु जब यमन के निर्दोष बच्चों और महिलाओं की हत्या की बात की जाती है तो इन सब को सांप सूंघ और उनके मुंह पर ताला लग जाता है। MM

टैग्स