Apr ०९, २०२१ ०८:५० Asia/Kolkata
  • सऊदी अरब के एक एयरपोर्ट पर यमन का ड्रोन हमला, सऊदी अरब यूरोप व अमरीका से नए एयर डिफ़ेंस सिस्टम ख़रीदने पर मजबूर!

यमन की सेना के प्रवक्ता ने बताया है कि इस देश के ख़िलाफ़ जारी सऊदी अरब के हमलों के जवाब में यमनी बलों ने दक्षिणी सऊदी अरब के इलाक़े जीज़ान में एक हवाई अड्डे पर ड्रोन हमला किया है। दूसरी ओर सऊदी अरब, जो यमनी बलों के ड्रोन व मीज़ाइल हमलों को रोकने में पूरी तरह नाकाम हो चुका है, यूरोप व अमरीका से नए एयर डिफ़ेंस सिस्टम ख़रीदने की कोशिश कर रहा है।

यमनी सेना के प्रवक्ता यहया सरी ने बताया कि दक्षिणी सऊदी अरब में स्थित जीज़ान एयरपोर्ट में इस देश के युद्धक विमानों के हैंगर को यमनी बलों ने अपने ड्रोनों से निशाना बनाया।

उन्होंने बताया कि ये हमले "क़ासिफ़-के2" ड्रोन विमानों के माध्यम से किए गए। इस बीच यमनी सेना और स्वयं सेवी बलों के ड्रोन व मीज़ाइल हमलों को रोकने में सऊदी अरब के एयर डिफ़ेंस सिस्टमों की पूरी तरह से नाकामी के बाद, रियाज़ ने एक दल यूरोपीय देशों और अमरीका की ओर रवाना किया है ताकि वह कोई अधिक विकसित और कारगर एयर डिफ़ेंस सिस्टम तलाश कर सके।

सऊदी अरब की यह सैन्य टीम इस बात की कोशिश कर रही है कोई ऐसा एयर डिफ़ेंस सिस्टम ख़रीदारी के लिए चुने जो मीज़ाइलों व ड्रोनों का पता लगाने, उन्हें मीज़ाइल मार कर ध्वस्त करने और कमांड सेंटर के तहत काम करने में सक्षम हो। दूसरे शब्दों में वह ऐसा एयर डिफ़ेंस सिस्टम तलाश कर रही है जो यमन की ओर से पैदा किए जाने वाले ख़तरों का मुक़ाबला कर सके।

याद रहे कि पिछले साल से यमनी बलों ने सऊदी अरब पर जो मीज़ाइल और ड्रोन हमले किए हैं, उन्होंने जंग का नक़शा ही बदल दिया है और अब युद्ध की परिस्थितियां पूरी तरह से यमन के पक्ष में हैं। यमनी सेना के प्रवक्ता ने कहा है कि जंग के सातवें साल में सऊदी सरकार को यमन के मीज़ाइल व ड्रोन यूनिटों की ओर से नई और चौंकाने वाली कार्यवाहियों का इंतेज़ार करना चाहिए। (HN)

 

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर  पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स