Apr ०९, २०२१ १४:५१ Asia/Kolkata

सऊदी अरब और इमारात के सैनिक एलायंस ने छह साल से यमन को जंग, विध्वंस और नाकाबंदी का निशाना बना रखा है। इस अविध में हमलावरों को कोई भी उद्देश्य पूरा करने में सफलता नहीं मिला, उनको बस राजनैतिक और सामरिक शिकस्त ही हाथ लगी है। यह शिकस्त जंग के मोर्चों पर यमन की जनता की बहादुरी और प्रतिरोध का नतीजा है।

हमलावरों को क्या हाथ लगा, यह देखना तो समीक्षा कीजिए कि 2015 में वह किस पोज़ीशन में थे और आज कहा हैं?

हमलावर सऊदी एलायंस ने यमन की जनता को झुकाने के लिए बहुत से तरीक़े अपनाए, पहले सामरिक रास्ता चुना, यमनी सेना, रक्षा केन्द्रों और उपकरणों को हवाई हमलों का निशाना बनाया। इसके बाद यमनी जनता का जीवन कठिन बनाने के लिए कठोर नाकाबंदी कर दी। यहां तक कि दवाओं और खाने पीने की चीज़ों तथा इलाज के लिए बीमारों के सफ़र पर रोक लगा दी गई। इसके बाद बीमारियां और वायरस फैलाने और ख़राब हो चुकी खाद्य वस्तुओं के वितरण जैसी हरकतें की गईं। मगर यहमन की जनता ने रक्षा उपकरणों के निर्माण और मोर्चों को मज़बूत करके इन सारी साज़िशों को नाकाम बना दिया।

यमनी नागरिक के अनुसार हमलावरों को आर्थिक नाकाबंदी और कूटनैतिक व राजनैतिक प्रयासों में नाकामी ही हाथ लगी है। उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रतिबंधित हथियारों का भी प्रयोग किया है मगर यमन की जनता के प्रतिरोध, अंसारुल्लाह आंदोलन के प्रमुख सैयद अब्दुल मलिक अलहौसी के नेतृत्व की बदौलत यमन ने हमले का सफलता से सामना किया।

विदेश मंत्रालय के अधिकारी का कहना है कि हमले के जवाब में जारी प्रतिरोध से यमन की प्रतिष्ठा बहाल हुई है। कृषि उद्योग और आत्म निर्भरता के क्षेत्र में यमन अन्य देशों की बराबरी कर रहा है।

अब यमन के ख़िलाफ़ जारी युद्ध को छह साल का समय बीत जाने के बाद यमन की जनता के सामने सऊदी अरब मजबूर हो चुका है। क्योंकि यमनी मिसाइल और ड्रोन विमानों के सऊदी हवाई अड्डों और प्रतिष्ठानों पर हमलों के बाद इमारात सऊदी अरब को अकेला छोड़कर भाग निकला है, इस समय यमन की सेना और स्वयंसेवी फ़ोर्स जंग के मैदान में पूरी तरह छाए हुए हैं। दिन ब दिन नए इलाक़े आज़ाद होते जा रहे हैं। सामरिक और जनशक्ति के हिसाब से यमन अब अधिक मज़बूत हो चुका है। जबकि हमलावर देश सामरिक और राजनैतिक क्षेत्र में कमज़ोर पड़ चुके हैं और दुनिया भर में बदनामी उठा रहे हैं।

सनआ से आईआरआईबी के लिए अब्दुल्लाह अलयुसुफ़ी की रिपोर्ट

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर  पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स