Apr ११, २०२१ २०:२१ Asia/Kolkata
  • जार्डन के पूर्व युवराज की शर्त, सेना की कमान मेरे हाथों में दी जाए

जार्डन के पूर्व युवराज ने इस देश के शासक अब्दु्ल्लाह के प्रति अपनी वफ़ादारी की घोषणा के बावजूद जार्डन की सेना की बागडोर अपने हाथ में लेने की मांग की है।

जार्डन के एक सूत्र ने बताया है कि हम्ज़ा बिन हुसैन ने सरकार विरोधी गतिविधियां रोकने को, जार्डन की सेना की कमान अपने हाथ में लेने से सशर्त कर दिया है।

रश्या अलयौम के अनुसार जार्डन के एक पत्रकार फ़हद अलख़ैतान ने जार्डन के हालिया विद्रोह का उल्लेख करते हुए लखा है कि जार्डन के युवराज की ओर से इस देश के शासक अब्दुल्लाह द्वितीय को अपनी वफादारी साबित करने के लिए भेजा गया पत्र, इस कहानी का अंत नहीं है बल्कि बात कुछ और हो सकती है।

इस सूत्र के अनुसार आरंभिक रिपोर्ट बताती है कि जार्डन में विद्रोह करने वालों ने अपने लक्ष्यों को हासिल करने के लिए हम्ज़ा का प्रयोग किया है। हालांकि जार्डन की गुप्तचर सेवा की रिपोर्टें बताती हैं कि हम्ज़ा बिन हुसैन की दूसरे कई अन्य मामलों में भी भूमिका रही है।  रिपोर्ट के अनुसार हम़्जा की इस मांग या शर्त ने जार्डन के शाही ख़ानदान को अधिक अचंभे में डाल दिया है कि उन्होंने सेना की कमान अपने हाथों में लेने की मांग रखी है।

याद रहे कि पिछले सप्ताह मंगलवार को संचार माध्यमों ने जार्डन में विद्रहों के आरोप में इस देश के शाही परिवार के कुछ सदस्यों और वहां के कुछ वरिष्ठ अधिकारियों की गिरफ़्तारी की सूचना दी थी जिनकी संख्या 14 से 16 के बीच थी।

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर  पर हमें फ़ालो कीजिए

 

टैग्स