May ११, २०२१ १८:३० Asia/Kolkata
  • ग़ज़्ज़ा पर इस्राईल के बर्बर हवाई हमले, 9 बेगुनाह बच्चों सहित 25 शहीद, फ़िलिस्तीनी जियालों का जवाबी हमला हुआ कारगर, मस्जिदुल अक़्सा खोलने पर हुआ मजबूर इस्राईल

ज़ायोनी वायु सेना ने एक बार फिर उत्तरी ग़ज़्ज़ा के कुछ इलाक़ों पर हवाई हमला किया है जिसके जवाब में फ़िलिस्तीनी प्रतिरोधकर्ता गुटों ने भी अवैध अधिकृत फ़िलिस्तीन में ज़ायोनी केन्द्रों पर 350 से ज़्यादा रॉकेट और मीज़ाईल बरसाए।

ज़ायोनी सेना के युद्धक विमानों ने मंगलवार को ग़ज़्ज़ा पट्टी के आवासीय इलाक़ों पर बमबारी की। ज़ायोनी शासन की फ़ौज के प्रवक्ता ने दावा किया कि इस्राईली युद्धक विमानों ने ग़ज़्ज़ा में प्रतिरोधकर्ता गुटों के 100 से ज़्यादा ठिकानों पर बमबारी की। फ़िलिस्तीनी सूत्रों का कहना है कि ज़ायोनी फ़ाइटर जेट्स ने पश्चिमी ग़ज़्ज़ा में एक आवासीय टॉवर की आठवीं मंज़िल पर स्थित दो अपार्टमेन्ट्स पर हमला किया जिसमें 4 फ़िलिस्तीनी शहीद हुए। ग़ज़्ज़ा पट्टी पर ज़ायोनी सेना के कल रात और आज के हमलों में 9 बेगुनाह बच्चों सहित 25 फ़िलिस्तीनी शहीद हुए जबकि घायलों की तादाद 100 से ज़्यादा है।

 

हमास की सैन्य शाखा इज़्ज़ुद्दीन क़स्साम ब्रिगेड की ओर से ज़ायोनी शासन को बैतुल मुक़द्दस और मस्जिदुल अक़्सा में फ़िलिस्तीनी नागरिकों के ख़िलाफ़ अपराध रोकने के लिए दी गयी मोहलत के ख़त्म होने के बाद, फ़िलिस्तीनी प्रतिरोधकर्ता गुटों ने ग़ज़्ज़ा पट्टी के उत्तर में ज़ायोनी शासन के सैन्य अड्डों और बस्तियों पर मीज़ाइल से हमला किया। बच्चों के हत्यारे ज़ायोनी शासन के अपराधों के जवाब में फ़िलिस्तीनी प्रतिरोध गुटों ने 350 से ज़्यादा रॉकेट और मीज़ाइल फ़ायर किए। फ़िलिस्तीनियों के राॅकेट हमलों में तीन ज़ायोनियों के मारे जाने की सूचना है। क़स्साम ब्रिगेड के प्रवक्ता अबू उबैदा ने बताया कि उनके मीज़ाइलों की रेंज 120 किलोमीटर तक है जिन्हें पहली बार इस्तेमाल किया गया। उन्होंने कहा कि प्रतिरोध के मीज़ाइल कारगर साबित हुए जिसके नतीजे में ज़ायोनी शासन मस्जिदुल अक़्सा को खोलने पर मजबूर हुआ और हज़ारों फ़िलिस्तीनियों ने वहां सुबह की नमाज़ पढ़ी। (MAQ/N)

 

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर  पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स