May २४, २०२१ १३:४९ Asia/Kolkata
  •  क्या इस्राईल को लगने जा रही गहरी चोट, अंसारुल्लाह प्रमुख के बयान से मिले कुछ ऐसे इशारे कि तेलअवीव की सांसे लगीं थमने!  

यमन के लोकप्रिय जनांदोलन अंसारुल्लाह के महासचवि ने कहा है कि आने वाले दिनों में ज़ायोनी दुश्मन को और ज़्यादा हार का मुंह देखने के लिए तैयार रहना चाहिए।

प्राप्त रिपोर्ट के मुताबिक़, यमन के लोकप्रिय जनांदोलन अंसारुल्लाह के महासचिव सैयद अब्दुल मलिक बद्रुद्दीन अलहौसी ने रविवार को दिए अपने एक भाषण में कहा कि इस समय यमन को उस आक्रमकता का सामना है कि जिसकी निगरानी अमेरिका कर रहा है और इसका नक़्शा अवैध ज़ायोनी शासन और ब्रिटेन ने मिलकर तैयार किया है और जिसे इनके ग़ुलाम व्यवहारिक बना रहे हैं। अलहौसी का कहना था कि, फ़िलिस्तीनी राष्ट्र पर जारी ज़ायोनी शासन के अत्याचार स्वयं इस अवैध शासन को धराशायी कर देंगे।

यमन की राष्ट्रीय मुक्ति सरकार के प्रमुख ने कहा कि, फ़िलिस्तीन राष्ट्र का प्रतिरोध और ज़ायोनी दुश्मन से हुए हालिया मुक़ाबले में यह एक अच्छा नतीजा यह निकलकर सामने आया है कि, ज़ायोनियों के विरुद्ध होने वाले संघर्ष में एक नई जान पड़ गई है। उन्होंने कहा कि यह जान फ़िलिस्तीन भाईयों के आपसी समन्वय और एकजुटता की वजह से संभव हो पाया है। सैयद अब्दुल मलिक अलहौसी ने कहा कि साम्राज्यवाद की कोशिश यह है कि अवैध ज़ायोनी शासन के साथ दोस्ती पर अरब और इस्लामी देशों को तैयार करके फ़िलिस्तीन की ओर से उनके ध्यान को भटका दिया जाए, लेकिन राष्ट्रों की जागरुकता और ज़िम्मेदाराना एहसास ने उन्हें एक मंच पर खड़ा कर दिया और सबने एकजुट होकर फ़िलिस्तीनी राष्ट्र का समर्थन किया। अंसारुल्लाह आंदोलन के प्रमुख ने यह साफ़ शब्दों ने कहा कि, अंतिम और निर्णायक कामयाबी हासिल होने तक ज़ायोनी दुश्मन को भविष्य में और अधिक पराजयों और असफलताओं का मुंह देखना पड़ेगा।

उल्लेखनीय है कि हाल ही में गज़्ज़ा में चले 12 दिनों तक युद्ध में प्रतिरोधक बलों ने इस्राईल और उसका समर्थन करने वालों को ऐसी शर्मनाक हार का स्वाद चखाया है कि वे अब अपनी खिसयाहट मिटाने के लए नए-नए बहाने तलाश कर रहे हैं। वहीं अलहौसी का बयान सामने आने के बाद कई जानकारों का मानना है कि आने वाले दिनों में प्रतिरोध इस्राईल के ख़िलाफ़ कोई बड़ी कार्यवाही कर सकते हैं कि जिसका उसने अनुमान भी नहीं लगाया होगा। अंसारुल्लाह के प्रमुख के बयान के बाद से ज़ायोनी शासन के अधिकारियों में भी बेचैनी देखी जा रही है। (RZ)

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर  पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स