Jul २२, २०२१ १७:४८ Asia/Kolkata

जब कोरोना संकट शुरू हुआ तो डब्ल्यूएचओ को सबसे ज़्यादा चिंता नाइजर की थी।...संस्था का अंदाज़ा था कि इस देश में दसियों लाख लोग मौत के शिकार बन जाएंगे।....नाइजर कहां है? पश्चिमी अफ़्रीक़ा का लैंडलाक देश है।

ढाई करोड़ की आबादी और बहुत अधिक प्रजनन दर। 12 लाख 67 हज़ार वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल और बड़ी दायनीय मानव स्थिति।....अब डब्ल्यूएचओ को हैरानी है कि यहां अस्पताल ख़ाली क्यों पड़े हैं? जो वैक्सीन वहां गई उसे भी वापस कर दिया गया। हालात लगभग सामान्य हैं। इन महीनों में जिनमें दुनिया महामारी से जूझ रही थी, यहां 200 से भी कम मौतें हुईं।...वजह क्या है? वायरोलोजिस्ट कहते हैं कि गावों की आपसी दूरी ज़्यादा है, शायद यह वजह है, या शायद यह वजह है कि यहां के लोगों के बीच आपसी संपर्क एतिहासिक रूप से बहुत कमज़ोर है। आबादी का बड़ा भाग जवानों का है। अब डब्ल्यूएचओ को हैरानी है कि क्या वजह हुई कि कोरोना नाइजर को लगभग भूल ही गया।

न्यूयार्क से आईआरआईबी के लिए नजफ़ज़ादे की रिपोर्ट।   

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर  पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स