Jul २९, २०२१ १३:४८ Asia/Kolkata

ईदे ग़दीर के उपलक्ष्य में रावलपिंडी में स्थित ईरान के वाणिज्य दूतावास में महिलाओं का जश्न आयोजित किया गया।

इस कार्यक्रम में शामिल वक्ताओं ने इस बात पर बल देते हुए कि ईदे ग़दीर दुनिया में हमेशा बाक़ी रहेगी, कहा कि ईदे ग़दीर के संदेश पर जो विलायत है अमल करना दुनिया के सारे मुसलमानों की ज़िम्मेदारी है।

एक महिला का कहना था कि इस ईद को किसी ख़ास गुट की ईद नहीं क़रार दी जानी चाहिए बल्कि इसको मुसलमानों के बीच एकता और एकजुटता के प्रतीक के रूप में बदल देना चाहिए। ईदे ग़दीर के दिन हमको ख़ुद को और एक दूसरे को बधाई देना चाहिए क्योंकि हमने हज़रत अली अलैहिस्सलाम की विलायत को क़बूल किया और  उनकी विलायत के मजब़ूत क़िले में ख़ुद को सुरक्षित रखा है।

जश्न में शामिल लोगों ने इसी तरह समाज में ईदे ग़दीर की संस्कृति फैलाने पर बल दिया... एक महिला का कहना है कि ग़दीर एक अहम मामला है और हमको समाज में इसे फैलाने के लिए भरपूर कोशिश करनी चाहिए।

एक वक्ता का कहना है कि मैं समझता हूं कि ग़दीर सारी मानवता के लिए सबसे बड़ी ईद है और इसको पूर दुनिया में फैलाने के लिए विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया जाना चाहिए।

इस जश्न में शामिल महिलाओं ने बल दिया कि ईदे ग़दीर, एकता और एकजुटता का दिन है और इसका सबसे अहम संदेश मुसलमानों और आपस में मित्रता और भाईचारा है। इस जश्न में पैग़म्बरे इस्लाम के परिजनों को नमूना और आइडियल मानने पर बल दिया दिया। (AK)

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर  पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स