Aug ०४, २०२१ ०८:४६ Asia/Kolkata

अफ़ग़ानिस्तान की राजधानी काबुल में विदेशी दूतावासों और सरकारी इमारतों के केन्द्र ग्रीन ज़ोन के निकट धमाके के बाद भीषण फ़ायरिंग के परिणाम में तीन लोग मारे गये जबकि कई अन्य घायल हो गये।

समाचार एजेन्सी रोयटर्ज़ की रिपोर्ट पुलिस अधिकारियों का कहना है कि ग्रीन ज़ोन के निकट पहले धमाका हुआ और उसकेस बाद फ़ायरिंग शुरु हुई।

अफ़ग़ान स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रवक्ता ग़ुलाम दस्तगीर नाज़िरी का कहना था कि घटना में 3 लोग हताहत और 7 अन्य घायल हो गये। वरिष्ठ सुरक्षा अधिकारी का कहना है कि यह कार बम का धमाका था और विदित रूप से सांसद के घर को निशाना बनाया गया था।

काबुल में धमाकों और फ़ायरिंग की ज़िम्मेदारी अभी तक किसी गुट ने नहीं ली है। रिपोर्ट के अनुसार धमाका होने के कुछ मिनट बाद शहरी अल्लाहो अकबर कहते हुए घरों से बाहर आए और तालेबान के ख़िलाफ़ अफ़ग़ान सरकार के समर्थन में नारे लगाने लगे।

काबुल के नागरिकों ने रात में विभिन्न क्षेत्रों में मार्च किया जिसमें महिलाएं भी शामिल थे। प्रदर्शनकारियों ने हाथों में मोमबत्तियां और अफ़ग़ान ध्वज उठा रखा था।

प्रदर्शन में शामिल एक नागरिक ने अपनी पहचान ज़ाहिर न करने की शर्त पर बताया कि पूरी दुनिया काबुल में जो कुछ हो रहा है उस पर चुप रह सकती है लेकिन हम चुप नहीं रह सकते और अब और चुप नहीं रह सकते और हम आंख़िरी सांस तक अपने सुरक्षा बलों के साथ हैं।

ज्ञात रहे कि पिछले सप्ताह अफ़ग़ान सेना ने देश के विभिन्न प्रांतों में तालेबान के ठिकानों पर बमबारी की थी जबकि तालेबान ने भी हमलों का दायरा बढ़ाते हुए बड़े शहरों की ओर बढ़ना शुरु कर दिया है।

रिपोर्ट में बताया गया है कि हेरात में सैकड़ों कमान्डर तैनात कर दिए गये हैं जबकि लश्करगाह शहर में हमलों को रोकने के लिए अतिरिक्त बलों को तलब कर लिया गया है और अफ़ग़ान सेना के हवाई हमलों में दर्जनों तालेबान मारे गये हैं।

हेरात के प्रांतीय गवर्नर के प्रवक्ता जीलानी फ़रहाद ने बताया कि हमलों में 100 लड़ाके मारे गये। दूसरी ओर लश्करगाह में मानवता प्रेमी सहायता के संगठनों का कहना है कि इन अस्पतालों में दर्जनों घायल लाए गये हैं और वह अपनी गुंजाइश के 90 प्रतिशत तक भर गये हैं। (AK)

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर  पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स