Aug ०४, २०२१ १८:५२ Asia/Kolkata
  • अफ़ग़ानिस्तान की स्थिति, अमेरिका और तालेबान के मध्य होने वाले गुप्त समझौते का परिणाम हैः अफ़ग़ान सांसद

अफ़ग़ानिस्तान के कुछ सांसदों और राजनीतिक कार्यकर्ताओं का मानना है कि इस देश की वर्तमान स्थिति पाकिस्तान के सहयोग से अमेरिका और तालेबान के बीच गुप्तरूप से होने वाले समझौते का परिणाम है।

समाचार एजेन्सी इर्ना की रिपोर्ट के अनुसार इन लोगों को कहना है कि अफ़ग़ानिस्तान में अमेरिका की दो दशकों तक उपस्थिति का परिणाम यह रहा है कि एक आतंकवादी गुट से 20 आतंकवादी गुट हो गये और समूचे अफ़ग़ानिस्तान में अशांति व भ्रष्टाचार व्याप्त हो गया है।

अफ़ग़ानिस्तान के सांसद ख़लील अहमद शहीदज़ादा ने कहा कि अमेरिका ने तालेबान और पाकिस्तान से वार्ता करके काबुल सरकार को हाशिये पर डाल दिया और इस गुट से गोपनीय समझौता किया और आज देश की जो स्थिति है वह उसी का परिणाम है।

उन्होंने कहा कि अफ़ग़ानिस्तान के लोगों और इस देश की सरकार को आज तक उस समझौते का विवरण ज्ञात नहीं है जो अमेरिका ने तालेबान से किया है और इस समझौत में किन बातों को शामिल किया गया है।

अफ़ग़ानिस्तान के मामलों के एक जानकार असदुल्लाह ज़ाएरी ने कहा कि अमेरिका के साथ तालेबान के अधूरे व त्रूटिपूर्ण समझौते के आधार पर तालेबान अफ़ग़ानिस्तान के नगरों व क्षेत्रों पर क़ब्ज़ा कर रहे हैं और अफगानिस्तान के लोगों और इस देश की सरकार को अमेरिका से किसी समर्थन की अपेक्षा नहीं रखनी चाहिये।

अफगानिस्तान के सैन्य मामलों के एक विशेषज्ञ अतीक़ुल्लाह अम्र ख़ैल ने भी समाचार एजेन्सी आवा से बात चीत में कहा कि बड़े शहरों पर तालेबान के हमले और हिंसा में वृद्धि दोहा समझौते का खुला उल्लंघन है। MM

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर  पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स