Sep २३, २०२१ १५:४८ Asia/Kolkata

घरेलु स्तर पर यह तमाचा खाने के बाद अब फ़्रांस के राष्ट्रपति के अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर तमाचा खाने की बात हो रही है।

पनडुब्बी के समझौते के रद्द होने के बाद जिसे हथियारों के संबंध में शताब्दी का समझौता क़रार दिया गया था, फ़्रांस की पार्टियों ने इसे मैक्रां के लिए अपमान और लज्जा क़रार दिया है क्योंकि राष्ट्रपति चुनाव में केवल सात महीने ही बचे हैं।

यह समझौता केवल तमाचा खाने जैसा ही रहा है, यह फ़्रांस के लिए कोई लाभदायक नहीं रहा है, मैंक्रां की यह ख़ामोशी अपमानजनक और लज्जाजनक है। पांच दिन की भारी ख़ामोशी के बाद यूरोपीय संघ ने एक बयान जारी करके फ़्रांस के संबंध में किए जाने वाले फ़ैसले को अस्वीकार्य क़रार दिया और अपने घटकों के संबंध में अमरीका के झूठ बोलने की कड़े शब्दों में निंदा की।

आज अमरीका की नीति ने बहुत अधिक समस्याएं पैदा कर दी हैं, उसके फ़्रांस जैसे घटक भी उससे सुरक्षित नहीं हैं। यद्यपि फ़्रांस के विदेशमंत्रालय ने आस्ट्रेलिया की ओर से पनडुब्बी के समझौते को रद्द करने की वजह अमरीका और ब्रिटेन का भड़काना क़रार दिया लेकिन आंतरिक आलोचकों का कहना है कि राष्ट्रपति मैक्रां की केवल यह ही पराजय नहीं है बल्कि उन्हें दुनिया को पाठ सिखाने से बचना चाहिए क्योंकि उनके सबसे निकटवर्ती घटक जो बाइडन तक उन्हें गंभीरता से नहीं लेते।फ़्रांस को अपने घटकों की ओर से विश्वासघात का सामना है, अगर अमरीका और अन्य लोगों की नज़र में फ़्रांस महत्वपूर्ण घटक है तो फिर व्यवहारिक रूप से उसका सम्मान क्योंकि नहीं किया गया, खेद की बात यह है कि इस संबंध में हमारे राजनेताओं ने कोई पाठ नहीं सीखा।

स्वीज़रलैंड और बेल्जियम की ओर से रफ़ाएल विमान की ख़रीदारी के समझौते को रद्द करने और उसकी जगह अमरीका के एफ़-35 विमान ख़रीदने का फ़ैसला, अन्य नाकामियां हैं जो मैंक्रां के नाम पर चढ़ गयी हैं, पनडुब्बी के मामले को एक सप्ताह गुज़र जाने के बावजूद, फ़्रांस के राष्ट्रपति अब भी ख़ामोश हैं, क्योंकि उनके सामने राष्ट्रपति चुनाव है, इसीलिए वह सारा ध्यान उस पर केन्द्रित करने की कोशिश कर रहे हैं।

 

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर  पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स