Oct २४, २०२१ २३:०८ Asia/Kolkata
  • तनाव के कारण  बहुत से अमरीकी सैनिक कर रहे है आत्महत्याएंः रिपोर्ट

अमरीकी सैनिकों के बीच आत्महत्याओं का रुझान बहुत तेज़ी से बढ़ता जा रहा है। 

अमरीकी सैनिक गहरे तनाव और अवसाद के कारण अब बहुत तेज़ी से खुदकुशी की तरफ बढ़ रहे हैं।  इस प्रकार से उनके भीतर आत्महत्या करने की प्रवृत्ति बढ़ती जा रही है।

पेंटागन की रिपोर्ट के अनुसार 9/11 के हमले के बाद से जबसे अमरीका ने आतंकवाद विरोधी वैश्चिक अभियान आरंभ किया है तबसे अमरीकी सैनिकों के बीच आत्महत्याओं का रुझान तेज़ी से बढ़ा है।

अमरीका की ब्राउन यूनिवर्सिटी के शोध के अनुसार इस देश के सैनिकों के भीतर आत्महत्या करने वालों की संख्या, आतंकवाद विरोधी युद्ध में मरने वालों की तुलना में बहुत अधिक है।

अमरीकी सैनिकों के भीतर बढ़ती आत्महत्या की प्रवृत्ति का अनुमान इस बात से लगाया जा सकता है कि पिछले दो दशकों के दौरान 30 हज़ार 177 अमरीकी सैनिक आत्हत्याएं कर चुके हैं जबकि इसी दौरान युद्धों में मरने वाले अमरीकी सैनिकों की संख्या कुल 7 हज़ार 57 थी।  मुख्य चिंता का विषय यह है कि आत्महत्या करने वाले सैनिकों में 61 प्रतिशत युवा सैनिक शामिल हैं।

मनोवैज्ञानिकों का कहना है कि लगातार युद्धों में भाग लेने के कारण इन सैनिकों का अपने ऊपर से भरोसा उठता जा रहा है जिसके परिणाम स्वरूप वे आत्महत्याएं कर रहे हैं।

अमरीकी सैनिकों को लड़ने के लिए उनकी इच्छा के विपरीत दूसरे देशों में भेजा जाता है।  स्वेच्छा से युद्ध में भाग न लेने के कारण उनकी मानसिक स्थिति ख़राब हो जाती है और वे आत्महत्या की ओर बढ़ते हैं।  इस प्रकार के सैनिक हर समय युद्ध के मैदान से भागने के प्रयास में रहते हैं।

यह भी देखा गया है कि युद्धों से वापस आने के बाद अमरीकी सैनिक सामान्य जीवन में घुलमिल नहीं पाते और वे स्वयं को अपराधी समझते हुए आत्महत्याओं की ओर बढ़ने लगते हैं।

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर  पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स