Nov २६, २०२१ १२:०९ Asia/Kolkata
  • अफ़ग़ानिस्तान, तालेबान के ज़ुल्म का शिकार हज़ारा कम्युनिटी ने भी तालेबान के समर्थन का एलान कर दिया

अफ़ग़ानिस्तान में अफ़ग़ान हज़ारा कम्युनिटी के सरदारों ने तालेबान के समर्थन का एलान कर दिया।

प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार अफ़ग़ान हज़ारा कम्युनिटी के एक हज़ार से अधिक सरदारों ने तालेबान की सरकार का समर्थन करते हुए कहा कि पूर्व की पश्चिम समर्थित सरकारों का अंधकारमयी काल, इस्लामवादियों की वापसी के साथ ख़त्म हो गया।

अफ़ग़ानिस्तान की हज़ारा कम्युनिटी एक लंबे समय से अत्याचार का शिकार रही है किन्तु गुरुवार को कम्युनिटी के सरदारों ने काबुल में तालेबान के नेताओं के साथ मुलाक़ात की और उनके समर्थन का एलान किया।

कार्यक्रम का प्रबंधन करने वाले हज़ारा कम्युनिटी के सीनियर नेता और पूर्व सांसद जाफ़र महदवी ने कहा कि पूर्व अफ़ग़ान राष्ट्रपति अशरफ़ ग़नी की सरकार, अफ़ग़ानिस्तान का अंधकारमयी काल थी।

उन्होंने कहा कि अफ़ग़ानिस्तान में कोई आज़ादी नहीं थी और विदेशी दूतावास सरकार के हर हिस्से पर शासन करते थे।

जाफ़र महदवी ने कहा कि अगस्त में तालेबान के सत्ता पर क़ब्ज़ा करने के बाद से नये शासकों ने युद्ध समाप्त कर दिया, भ्रष्टाचार को रोका है और सुरक्षा में भी वृद्धि की है।

उन्होंने तालेबान से समग्र सरकार की मांग की और नये शासकों पर बल दिया कि वह लड़कियों के लिए स्कूल दोबारा खोलें।

ज्ञात रहे कि हज़ारा कम्युनिटी अफ़ग़ानिस्तान की 38 करोड़ आबादी का 20 प्रतिशत हिस्सा है और लंबे समय से हज़ारा कम्युनिटी ज़ुल्म का शिकार रही है।

इससे पहले तालेबान ने 1998 में मज़ार शरीफ़ सहित हज़ारा कम्युनिटी के कई शहरों में व्यापक स्तर पर जनंसहार किया है और ह्यूमन राइट्स वाच का कहना था कि कम से कम 2 हज़ार हज़ारा कम्युनिटी के लोगों को फांसी दी गयी। (AK)

 

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर  पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स