Dec ०७, २०२१ ११:४९ Asia/Kolkata
  • अमेरिका ने भी अंततः सच्चाई क़बूल ही कर ली, इस बात का कोई प्रमाण नहीं कि ...

अमेरिका की ख़ुफिया एजेन्सी सीआईए के प्रमुख ने कहा है कि इस बात का कोई प्रमाण नहीं है कि ईरान परमाणु हथियार बनाने का इरादा रखता है और उसके परमाणु कार्यक्रम में कोई सैन्य आयाम है।

समाचार एजेन्सी फार्स की रिपोर्ट के अनुसार विलियम जोसेफ़ बर्न्स ने सात दिसंबर की सुबह को इस बात को स्वीकार किया कि ईरान के परमाणु कार्यक्रम में कोई सैन्य आयाम नहीं है। उन्होंने यह बात समाचार पत्र वॉल स्ट्रीट जरनल की ओर से आयोजित एक बैठक में कही।

प्रतिबंधों को समाप्त करने के बारे में पिछले सप्ताह जो वियना में बैठक हुई थी विलियम जोसेफ़ बर्न्स ने उसकी ओर संकेत किया और दावा किया कि ईरानियों ने इस दौर में अभी वार्ता को गम्भीरता से नहीं लिया है और शीघ्र ही हम देखेंगे कि वे वार्ता में कितने गंभीर हैं।

विलियम जोसेफ़ बर्न्स ने इस ओर कोई संकेत नहीं किया कि वर्ष 2018 में अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप एकपक्षीय रूप से परमाणु समझौते से निकल गये थे और उन्होंने न केवल परमाणु समझौते का उल्लंघन किया बल्कि जो देश इस समझौते के परिप्रेक्ष्य में ईरान के साथ व्यापारिक लेन- देन करना चाहते थे उन्हें दंडित करने की धमकी भी देते थे।

रोचक बात यह है कि सीआईए के प्रमुख ऐसी हालत में ईरान पर वार्ता में गंभीर न होने का आरोप लगा रहे हैं जब अमेरिका अंतरराष्ट्रीय समझौते का उल्लंघन करता है और उस पर अमल तक नहीं करता।

परमाणु ऊर्जा की अंतरराष्ट्रीय एजेन्सी के निरीक्षक बारमबार ईरान के परमाणु प्रतिष्ठानों का निरीक्षण कर चुके हैं और उन्हें कभी भी ऐसा कोई प्रमाण नहीं मिला जो इस बात का सूचक हो कि ईरान का परमाणु कार्यक्रम ग़ैर शांतिपूर्ण लक्ष्यों के लिए है।

ज्ञात रहे कि अमेरिका की अगुवाई में पश्चिमी देश और इस्राईल वर्षों से ईरान पर यह निराधार आरोप मढ़ते रहे हैं कि ईरान का परमाणु कार्यक्रम शांतिपूर्ण नहीं है और उसका सैनिक लक्ष्य है जबकि ईरान ने हमेशा इस निराधार दावे का कड़ाई से खंडन किया है और परमाणु ऊर्जा की अंतरराष्ट्रीय एजेन्सी ने अपनी बारमबार की रिपोर्टों में भी ईरान के परमाणु कार्यक्रम के शांतिपूर्ण होने की पुष्टि की है।

ईरान परमाणु हथियार अप्रसार संधि एनपीटी पर हस्ताक्षर करने वाला देश है और वह परमाणु ऊर्जा से शांतिपूर्ण उद्देश्यों के लिए लाभ उठाना चाहता है। MM

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर  पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स