Jan १९, २०२२ २२:२१ Asia/Kolkata
  • उपद्रव का उद्देश्य सरकार का तख्ता पलटना थाः नज़रबायेफ

क़िरक़ीज़िस्तान के पूर्व राष्ट्रपति ने कहा है कि देश में हालिया उपद्रवों का मुख्य उद्देश्य सरकार को गिराना था।

फ़ार्स न्यूज़ के अनुसार क़िरक़ीज़िस्तान के पूर्व राष्ट्रपति नूर सुल्तान नज़रबायेफ़ ने अपने एक संबोधन में इस देश की हालिया अशांति का उल्लेख किया।

उन्होंने कहा कि एलपीजी के मूल्यों में वृद्धि का बहाना बनाकर जो उपद्रव देश में किया गया वह सुनियोजित था और उसका उद्देश्य क़िरक़ीज़िस्तान की सरकार को गिराना था।  नज़रबायेफ़ ने उपद्रव के दौरान मारे गए लोगों के परिजनों के प्रति सहानुभूति प्रकट करते हुए घायलों के ठीक होने की कामना की।

उन्होंने कहा कि देश को अधिक सुरक्षा की आवश्यकता है जिसपर ध्यान दिया जाना चाहिए। उनका यह भी कहना था कि देश की एकता ने षडयंत्र को विफल बना दिया इसलिए हमको आपसी एकता का ध्यान रखना चाहिए।

उल्लेखनीय है कि कज़ाकि़स्तान में 2 जनवरी को एलपीजी के मूल्यों में वृद्धि के बाद विरोध प्रदर्शन किये गए।  बहुत ही थोड़े समय में यह प्रदर्शन पूरे देश में फैल गए जिसमें बड़ी संख्या में लोग मारे गए।

बाद में जब स्थिति नियंत्रण में आ गई तो कज़ाक़िस्तान के राष्ट्रपति ने बताया कि विरोध प्रदर्शन सुनियोजित थे जिसमें कुछ प्रदर्शनकारियों ने विदेश में प्रशिक्षण लिया था।

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर  पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स