Jan २७, २०२२ १८:०९ Asia/Kolkata
  • मानवीय सहायता लेने से पहले मानवाधिकार की स्थिति सुधारें तालेबान!

यूरोप के एतिहासिक दौरे पर तालेबान प्रतिनिधिमंडल से मुलाक़ात के बाद पश्चिमी देशों के कूटनयिकों ने अफ़ग़ानिस्तान के लिए मानवीय सहायता की बहाली से पहले मानवाधिकार की स्थिति में सुधार की शर्त लगा दी है।

एएफ़पी की रिपोर्ट के अनुसार अगस्त में देश का कंट्रोल संभालने के बाद यूरोप के पहले सरकारी दौरे के आख़िरी दिन तालेबान ने कई पश्चिमी कूटनयिकों के साथ बातचीत की। तालेबान अंतर्राष्ट्रीय मान्यता और मानवीय सहायता की बहाली चाहते हैं।

पिछले साल अगस्त में सत्ता में तालेबान की वापसी के बाद से अफ़ग़ानिस्तान में मानवीय स्थिति तेज़ी से ख़राब हुई है। अंतर्राष्ट्रीय सहायता अचानक रुक जाने से कई बरसों से सूखे का सामने करने वाली अफ़ग़ान जनता भुखमरी की कगार पर पहुंच गई है।

अफ़ग़ानिस्तान के लिए यूरोपीय संघ के विशेष दूत टाम्ज़ निकल्सन ने ट्वीट किया कि उन्होंने मार्च में शैक्षिक साल शुरू होने पर अफ़ग़ानिस्तान में प्राइमरी और सेकेंड्री स्कूलों के लड़कों और लड़कियों की शिक्षा बहाल होने की ज़रूरत को उजागर किया।

वह अफ़ग़ान विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता के एक ट्वीट का जवाब दे रहे थे जिसमें यूरोपीय संघ की ओर से अफ़ग़ानिस्तान के लिए मानवीय सहायता जारी रखने के इरादे का स्वागत किया गया था।

विदेश मंत्री का पदभार संभालने वाले अमीर ख़ान मुत्तक़ी के नेतृत्व में तालेबान के प्रतिनिधिमंडल ने फ़्रांसीसी विदेश मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी बरट्रेन्ड लोथोलरी, ब्रिटेन के विशेष दूत नाइजल केसी और नार्वे के विदेश मंत्रालय के अधिकारियों से मुलाक़ातें कीं।

न्यूयार्क में संयुक्त राष्ट्र संघ में नार्वे के प्रधानमंत्री जोनास गेहर स्टोर ने कहा कि ज़ाहिरी तौर पर बातचीत संजीदा थी। उन्होंने कहा कि हमने यह स्पष्ट कर दिया है कि अफ़ग़ानिस्तान में हम मार्च में 12 साल से ज़्यादा उम्र की लड़कियों सहित सारी लड़कियों को दोबारा स्कूल में देखना चाहते हैं और हम इंसानी हमदर्दी के आधार पर अप्रोच देखना चाहते हैं।

तालेबान ने इस हफ़्ते ओस्लो के क़रीब एक होटल में होने वाली इस बातचीत को विश्व स्तर पर अपनी मान्यता की ओर एक क़दम के रूप में सराहा है।

अलबत्ता नार्वे ने साफ़ कर दिया कि इस वार्ता का तालेबान को मान्यता देने या न देने से कोई संबंध नहीं है।

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर  पर हमें फ़ालो कीजिए

टैग्स