Jul ०४, २०२२ ०८:५८ Asia/Kolkata
  • हर दिन एक या दो महिला आत्महत्या कर रही है, लड़कियों को बेचा जा रहा है

अफगानिस्तान के पूर्व डिप्टी स्पीकर ने कहा कि हर दिन कम से कम एक या दो महिलायें अवसर की कमी और मानसिक स्वास्थ्य के दबाव के कारण आत्महत्या कर रही हैं और कम उम्र की लड़कियों को आर्थिक दबाव के कारण बेचा जा रहा है।

उन्होंने कहा कि अवसर की कमी और बीमार मानसिक स्वास्थ्य महिलाओं पर भारी पड़ रहा है। इस बात का रहस्योद्घाटन जनेवा में मानवाधिकार परिषद (HRC) में महिला अधिकारों के मुद्दे पर बहस के दौरान हुआ।

तालिबान की ओर से सत्ता के अधिग्रहण के बाद महिला अधिकारों की स्थिति पर चर्चा करने के लिए एचआरसी ने बैठक की। यह बैठक ऐसे समय हो रही है जब अफगान महिलाएं दशकों से अपने अधिकारों का सबसे बड़ा रोलबैक देख रही हैं।

अफगान संसद की पूर्व डिप्टी स्पीकर फौजिया कूफी ने कहा कि नौ साल से कम उम्र की लड़कियों को न केवल आर्थिक दबाव के कारण बेचा जा रहा है, बल्कि इसलिए भी कि उनके लिए कोई उम्मीद नहीं बची है। यह सामान्य नहीं है और अफगानिस्तान की महिलाएं इसके लायक नहीं हैं।"

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार प्रमुख मिशेल बाचेलेट ने अफगान महिलाओं की भारी बेरोजगारी, उनके कपड़े पहनने के तरीके पर लगाए गए प्रतिबंधों और बुनियादी सेवाओं तक उनकी पहुंच में रुकावट की निंदा की।

तालेबान के अगस्त 2021 में सत्ता संभालने के बाद महिलाओं के स्वामित्व व्यवसायों को बंद कर दिया गया है। बाचेलेट ने कहा कि 1.2 मिलियन लड़कियों की अब माध्यमिक शिक्षा तक पहुंच नहीं है। mm

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर पर हमें फ़ालो कीजिए

 

टैग्स