Aug ०७, २०२२ १८:५२ Asia/Kolkata
  • बिजली गिरने से फ्यूल डिपो में भीषण आग, 121 घायल, 17 लापता दूसरे देशों से मांगनी पड़ी मदद

क्यूबा में एक ईंधन डिपो में इतनी भीषण लगी थी कि पूरा आसमान आग की लपटों से पीला हो गया था।

शनिवार को क्यूबा में एक फ्यूल डिपो पर बिजली गिरने से भीषण आग लग गई। आग के भीषण होने का अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि क्यूबा को दूसरे देशों से मदद मांगनी पड़ी और दूसरे देशों ने मदद के लिए हाथ भी बढ़ाया।

यह आग पश्चिमी मातनजास प्रांत में स्थित एक फ्यूल डिपो में लगी है। इस आग में अभी तक एक व्यक्ति की मौत की पुष्टि हुई है जबकि 121 लोग घायल हुए हैं और 17 लोग लापता हैं। अधिकारियों के मुताबिक, वहां से 1900 लोगों को बचाकर निकाला गया है।

क्यूबा के राष्ट्रपति के टि्वटर हैंडल पर एक अपडेट के मुताबिक, पांच लोग गंभीर रूप से घायल हो गए, जबकि तीन अन्य की हालत बहुत गंभीर है और वे अस्पताल में भर्ती हैं। घायलों में ऊर्जा मंत्री लिवान अरोन्टे भी शामिल हैं।

दूसरे देशों से मदद मांगने के बाद क्यूबा के राष्ट्रपति मिगुएल डियाज़-कैनेल ने मेक्सिको, वेनेजुएला, रूस, निकारागुआ, अर्जेंटीना और चिली की सरकारों का धन्यवाद व्यक्त किया, जिन्होंने तुरंत मदद की पेशकश की। इसके अलावा अमेरिका ने भी क्यूबा की मदद की पेशकश की।

आग इतनी भीषण थी कि पूरा आसमान आग की लपटों से पीला हो गया था। 140,000 की आबादी वाले शहर मतंजस के बाहरी इलाके में यह डिपो स्थित है जहां शुक्रवार को एक फ्यूल टैंक पर बिजली गिरने के बाद आग लग गई।

शनिवार तड़के तक आग दूसरे टैंक तक फैल गई थी, जिससे उसमें भी विस्फोट हए। विस्फोट के बाद पूरा आसमान काला हो गया और चारों तरफ धुंआ फैल गया। आग पर काबू पाने के लिए हेलीकॉप्टरों को बहुत प्रयास करने पड़े। मौके पर एंबुलेंस, पानी की टंकियां और क्रेन मौजूद थीं। mm

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर पर हमें फ़ालो कीजिए 

फेसबुक पर हमारे पेज को लाइक करें

 

टैग्स