Aug १०, २०२२ ०८:५६ Asia/Kolkata
  • अमरीकी इतिहास का सबसे बुरा समझौता था,

एक अमरीक कमांडर का कहना है कि "दोहा समझौता" अमरीकी इतिहास का सबसे बुरा समझौता था।

अफ़ग़ानिस्तान में अमरीका सेना के पूर्व कमांडर डेविड पीटर्सन कहते हैं कि अफ़ग़ानिस्तान की स्थति को नियंत्रण करने की क्षमता अमरीका के भीतर थी।  उन्होंने कहा कि अमरीकी सरकार, ग़नी सरकार को गिरने से भी रोक सकती थी।

"द एटलांटिक" पत्रिका के लिए लिखे गए अपने लेख में डेविड पीटर्सन लिखते हैं कि मेरे हिसाब से दोहा समझौता एक ग़लत समझौता था।  उनके अनुसार अफ़ग़ानिस्तान में मौजूद अपनी संभावनाओं के दृष्टिगत वह इस देश की तत्कालीन सरकार के समर्थक और सलाहकार की भूमिका निभा सकता था।

अपने लेख में पीटर्सन ने अफ़ग़ानिस्तान में अमरीकी की कई ग़लतियों का उल्लेख किया है।  वे लिखते हैं कि वाशिंगटन की सबसे बड़ी ग़लती यह थी कि उसने अफ़ग़ानिस्तान की केन्द्रीय सरकार को अधिक अधिकार दे दिये थे।

लंबे समय तक सीआईए के प्रमुख की भूमिका निभाने वाले इस अमरीकी कमांडर का कहना है कि अफ़ग़ानिस्तान की तत्कालीन सरकार के गिरने का मुख्य कारण दोहा समझौते के अन्तर्गत किया जाने वाला वह फैसला था जिसके आधार पर तालेबान के पांच हज़ार बंदियों को स्वतंत्र कर दिया गया।

उन्होंने कहा कि जिस प्रकार से बाइडेन प्रशासन ने जल्दबाज़ी में अफ़ग़ानिस्तान से अमरीकी सैनिकों को वापस बुलाया उससे अमरीका के प्रतिस्पर्धियों के इस दावे की पुष्टि होती है कि अमरीका भरोसे योग्य साथी नहीं है और उसकी शक्ति क्षीण हो रही है। पीटर्सन अंत में लिखते हैं कि आज तालेबान, अफ़ग़ानिस्तान में कई आंतकी गुटों का समर्थन करते हुए अपनी सत्ता चला रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि संयुक्त राज्य अमरीका और ताेलबान के बीच 29 फरवरी सन 2020 को दोहा की राजधानी क़तर में एक समझौता हुआ था जो "दोहा समझौते" के नाम से जाना गया।  इसी समझौते के अन्तर्गत अफ़ग़ानिस्तान में तथाकथित शांति स्थापित की गई थी।

इस समझौते में अमरीका और नेटो सहित अफ़ग़ानिस्तान से समस्त विदेशी सैनिकों की वापसी की बात कही गई थी।  साथ ही तालेबान से अफ़ग़ानिस्तान में अलक़ाएदा की सक्रियता को रोकने के लिए भी कहा गया था।  दोहा समझौते के बाद 5 अगस्त सन 2021 को तालेबान ने अफ़ग़ानिस्तान की सत्ता अपने हाथों में ले ली थी।

 हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर पर हमें फ़ालो कीजिए 

फेसबुक पर हमारे पेज को लाइक करें

टैग्स