Sep २८, २०२२ १६:३० Asia/Kolkata
  • अमेरिका और रूस के बीच बढ़ता टकराव, सुरक्षा परिषद के सिद्धांतो की धज्जियां उड़ाने वाला व्हाइट हाउस अब दुनिया से मदद की मांग रहा है भीख!

संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी राजदूत लिंडा थॉमस ग्रीनफील्ड ने रूस की निंदा करते हुए एक प्रस्ताव पेश किया है। यूक्रेन से अलग हो चुके चार क्षेत्रों में हुए जनमत संग्रह के ख़िलाफ़ अमेरिका ने सुरक्षा परिषद के सामने एक प्रस्ताव रखा है।

प्राप्त रिपोर्ट के मुताबिक़, सुरक्षा परिषद में अमेरिका और अल्बानिया द्वारा संयुक्त रूप से यह प्रस्ताव पेश किया गया है। वहीं इस प्रस्ताव को केवल प्रतीकात्मक प्रस्ताव के रूप में देखा जा रहा है क्योंकि इस बात की पूरी उम्मीद है कि रूस लगभग निश्चित रूप से इसे वीटो करेगा। वहीं संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी राजदूत थॉमस ग्रीनफील्ड ने कहा कि अगर रूस “जवाबदेही से खुद को बचाने” का फ़ैसला करता है तो अमेरिका वोट को संयुक्त राष्ट्र महासभा को संदर्भित करेगा। थॉमस ग्रीनफील्ड ने कहा कि यह निर्णय रूस को यूक्रेन से अपनी सेना वापस लेने के लिए भी बाध्य करेगा। उन्होंने कहा कि अमेरिकी राजनयिक सुरक्षा परिषद के सभी देशों के साथ पर्दे के पीछे संवाद करेंगे, जिसमें चीन और भारत के राजनयिक भी शामिल हैं, ताकि उन्हें वोट देने के लिए कहा जा सके। थॉमस ग्रीनफील्ड ने कहा कि रूस संयुक्त राष्ट्र के एक अन्य सदस्य राज्य के क्षेत्र को जबरन ज़ब्त करने के प्रयास में क्षेत्र पर क़ब्ज़ा करने का इरादा रखता है, जिसे संयुक्त राष्ट्र चार्टर को अमेरिकी अधिकारी के अनुसार रोकने के लिए बाध्य किया गया है। उन्होंने सुरक्षा परिषद के सदस्यों से भी आह्वान किया कि वे रूस के साथ न खड़े होकर इस समय अमेरिका का साथ दें।

संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी राजदूत थॉमस ग्रीनफील्ड

संयुक्त राष्ट्र में अमेरिकी राजदूत थॉमस ग्रीनफील्ड ने रूस द्वारा लोहांस्क, दोनेत्सक, ख़रसून और ज़ायोरिज़ा में कराए गए जनमत संग्रह को नकली बताया और कहा कि यदि इस जनमत संग्रह को स्वीकार किया जाता है, तो एक पेंडोरा का बॉक्स खुल जाएगा जिसे हम बंद नहीं कर सकते। हम चाहते हैं कि आप संयुक्त राष्ट्र चार्टर के प्रति हमारी प्रतिबद्धता की पुष्टि करने और इस चुनौती को गंभीरता से लेने में हमारे साथ शामिल हों।” उन्होंने यह भी दावा किया है हम जो कर रहे हैं वह संयुक्त राष्ट्र चार्टर का बचाव करने के बारे में है। यह हमारे सामूहिक अधिकारों की रक्षा के बारे में है। यह हम सभी के लिए शांति और सुरक्षा के बारे में है। उल्लेखनीय है कि लोहांस्क, दोनेत्सक, ख़रसून और ज़ायोरिज़ा जैसे क्षेत्रों के रूस में विलय के मुद्दे को लेकर 23 सितंबर को इन क्षेत्रों में जनमत संग्रह आरंभ हुआ था जो 27 सितंबर तक जारी रहा। (RZ)

हमारा व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करने के लिए क्लिक कीजिए

हमारा टेलीग्राम चैनल ज्वाइन कीजिए

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब कीजिए!

ट्वीटर पर हमें फ़ालो कीजिए 

फेसबुक पर हमारे पेज को लाइक करें 

टैग्स