Jan २५, २०२० २१:०२ Asia/Kolkata
  • कश्मीर को लेकर शीर्ष अमेरिकी अधिकारी ने जारी की अपील

एक शीर्ष अमेरिकी अधिकारी ने भारत सरकार से जम्मू कश्मीर में हिरासत में लिए गए राजनीतिक नेताओं को रिहा करने और अमेरिकी राजनयिकों के लिए केंद्र शासित प्रदेश में नियमित रूप से पहुंचने देने का आग्रह किया है।

प्राप्त रिपोर्ट के मुताबिक़, इस महीने की शुरुआत में नई दिल्ली में भारत सरकार द्वारा आयोजित रायसीना वार्ता में भाग लेने के बाद वापस लौटकर दक्षिण और मध्य एशिया की कार्यवाहक सहायक सचिव एलिस वेल्स ने कहा कि वे केंद्र शासित प्रदेश में लगातार लिए जा रहे फ़ैसलों को देखकर प्रसन्न हैं, जिसमें इंटरनेट सेवाओं की वापसी भी शामिल है। वेल्स ने वाशिंगटन डीसी में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘जम्मू कश्मीर पर मुझे कुछ प्रगति देखकर ख़ुशी हुई जिसमें कश्मीर में इंटरनेट सेवा आंशिक रूप से बहाल करना शामिल है। इसके साथ ही हमारे राजदूत और अन्य विदेशी राजनयिकों की जम्मू कश्मीर की यात्रा कुछ ऐसा है जो मुझे पता है कि प्रेस में बड़े पैमाने पर कवर किया गया था। उन्होंने कहा कि हम इसे एक उपयोगी क़दम के रूप में देखते हैं और हम अपने राजनयिकों द्वारा नियमित रूप से पहुंच की अनुमति देने और उन राजनीतिक नेताओं को जल्द से जल्द छोड़ने के लिए सरकार से आग्रह करते हैं, जिन्हें बिना किसी आरोप के हिरासत में लिया गया है।’ वेल्स की यह टिप्पणी केंद्र सरकार द्वारा जम्मू कश्मीर में इंटरनेट सेवाओं को बहाल किए जाने के एक दिन पहले आई है. हालांकि, सोशल मीडिया साइट्स अभी भी पाबंदी लागू है।

इससे एक दिन पहले पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ़्ती ने भी राजनीतिक बंदियों की रिहाई का मुद्दा उठाते हुए गुरुवार को कहा था कि कश्मीर में राजनीतिक बंदियों की रिहाई, इंटरनेट बहाल करने और घाटी में लोगों का डर दूर करने से स्थिति सामान्य होगी, न कि विभिन्न मंत्रियों के फोटो खिंचवाने से। बता दें कि, जम्मू कश्मीर की स्थिति को सामान्य दिखाने और आम लोगों तक पहुंच को दिखाने के लिए केंद्र सरकार मंत्रियों का समूह जम्मू कश्मीर के दौरे पर है और विभिन्न सरकारी कार्यक्रमों में अपनी मौजूदगी दर्ज करा रहा है। (RZ)

 

टैग्स

कमेंट्स